Patrika Hindi News

दाऊद और हाजी मस्तान को अपने इशारों पर नचाती थी यह माफिया क्वीन

दाऊद के लिए पत्थर की लकीर हुआ करता था जेनाबाई का आदेश
Jenabai Daruwala

आज भले ही अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम भारत समेत पूरी दुनिया के लिए सरदर्द बना है, लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब दाऊद और उसका गॉडफादर हाजी मस्तान एक महिला के इशारे पर नाचते थे। आज हम आपको मुंबई की माफिया क्वीन जेनाबाई दारुवाला के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसका हर आदेश दाऊद के लिए पत्थर की लकीर हुआ करता था।

अंडरवर्ल्ड की रिपोर्टिंग करने वाले जाने माने पत्रकार और लेखक हुसैन जैदी की किताब माफिया क्वींस ऑफ मुंबई के मुताबिक 1920 के आरंभिक वर्षों में मुसलमान मेमन हलाई के परिवार में पैदा हुई जैनब उर्फ जेनाबाई छह भाई बहनों में से एक थी। यह परिवार मुंबई के डोंगरी इलाके के एक चॉल में रहता था। परिवार के गुजर बसर के लिए पिता सवारियां ढोने का काम करता था।

आजादी की लड़ाई में थी शामिल
कहा जाता है कि बीसवीं सदी का तीसरा दशक आने तक वह डोंगरी में आजादी की लड़ाई के लिए महात्मा गांधी के आंदोलन में शामिल हुई थी। जेनाबाई जब सिर्फ 14 साल की थी तब उसकी शादी हो गई। शादी के बाद भी वह आंदोलन से जुड़ी रही। उस दौरान किसी हिंदू को कानून या पुलिस से बचा लेने पर उसे अपने पति की मार भी खानी पड़ती थी। 1947 में बंटवारे के दौरान जेनाबाई ने मुंबई छोड़ने से मना कर दिया और इस बात से नाराज उसका पति उसके 5 बच्चों को छोड़कर पाकिस्तान चला गया।

आगे की स्लाइड में जानिए जेनाबाई ने कैसै शुरू की स्मगलिंग

इस खबर को फेसबुक पर शेयर करें, यहां क्लिक करें

Patrika News Track
Special »
Anuradha went to college without going to school, father’s insistence was not to send the school

बिना स्कूल गए कॉलेज में कदम रखेगी अनुराधा, पिता की जिद थी स्कूल न भेजने की

मुंबई के अजीत मांडलिक की बेटी अनुराधा मांडलिक एक दिन भी स्कूल नहीं गई। इसके बावजूद उसने दसवीं काफी अच्छे अंकों से पास की और अब वह कॉलेज में कदम रखने जा रही है। यह सबकुछ उसके पिता की एक जिद से संभव हुआ कि स्कूल भेजे बगैर भी बच्चे को अच्छी शिक्षा दी जा सकती है।
Special »
best teachers make student best performer and earner

अच्छे शिक्षक से पढऩे वाले बच्चे बड़े होकर अपने सहपाठियों से कमाते भी हैं ज्यादा 

अंतरराष्ट्रीय स्तर के एक सर्वे में बताया गया है कि अच्छे शिक्षकों से पढ़ाई करने वाले बच्चे न केवल अकादमिक रूप से बेहतर परफॉर्म करते हैं, बल्कि बड़े होकर दूसरे सहपाठियों की तुलना में कमाई भी ज्यादा करते हैं।
Special »
student can play video game in school

स्कूली बच्चों को क्लास में वीडियो गेम की मिलेगी छूट 

केंद्रीय विद्यालय संगठन ने काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च लैबोरेटरीज के साथ एक करार किया है। इसका उद्देश्य स्कूली शिक्षा को रोचक और इनोवेटिव बनाना है।
Science & Tech »
mud makes tiny planets in solar system

क्षुद्र ग्रहों से नहीं...कीचड़ से बनी है धरती

लंबे समय से वैज्ञानिकों का यह मानना रहा है कि पृथ्वी सहित तमाम ग्रहों का निर्माण चट्टानी क्षुद्र ग्रहों से हुआ है, पर वैसा वास्तव में नहीं है। क्षुद्र ग्रहों का निर्माण कीचड़ से हुआ है।
More From
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???