Patrika Hindi News

केन्द्रीय कर्मचारियों को तोहफा, 15 दिन में निकाल सकेंगे GPF का पैसा

केन्द्रीय कर्मचारी 15 दिन में निकाल सकेंगे जीपीएफ का पैसा
GPF

केन्द्रीय कर्मचारी 15 दिन में निकाल सकेंगे जीपीएफ का पैसा
नई दिल्ली। केन्द्र सरकार के कर्मचारियों के लिए खुशखबरी है। केन्द्रीय कर्मचारी अपने जनरल प्रोविडेंट फंड यानि GPF का पैसा आसानी से निकाल सकेंगे। सरकार ने जीपीएफ के नियमों में कुछ बदलाव किए है जिसके बाद अब कोई भी केन्द्रीय कर्मचारी 15 दिन के अंदर अपना जीपीएफ का पैसा निकाल सकेगा। बता दें पहले इस तरह की कोई लिमिट नहीं थी। जीपीएफ का पैसा निकालने के लिए आपकी 10 साल की सर्विस पूरी होना अनिवार्य है पहले यह लिमिट 15 वर्ष थी, जिसे घटाकर कम कर दिया गया है। 
अगली स्लाइड में जानिए एक बार में कितने पैसे निकाल सकेंगे

इस खबर को फेसबुक पर शेयर करें, यहां क्लिक करें

Patrika News Track
Miscellenous India »
Kupwara Attack: Naik Rishi Kumar killed two terrorists in injured position

इस वीर सपूत ने घायल होने के बाद भी दो आतंकियों को किया ढेर, पढ़ें पूरी कहानी

जम्मू-कश्मीर के कुपवाडा जिले में सेना के पंजगाम स्थित चौकीबल शिविर पर गुरुवार को हमला बोलने वाले तीन आतंकवादियों में से दो को वहां तैनात गनर ऋषि कुमार ने बुरी तरह घायल होने के बावजूद मौत की नींद सुला दिया।
Political »
HM Rajnath holds a meeting with inter-ministerial team to review implementation of development package for J&K

कश्मीर पैकेज से जुड़े विकास कार्यों की केन्द्र ने की समीक्षा 

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जम्मू-कश्मीर में विकास कार्यों के लिए घोषित पैकेज के क्रियान्वयन की गुरुवार को उच्च स्तरीय बैठक में समीक्षा की।
Crime »
Malegaon blast : I am a victim of Congress’s conspiracy - Sadhvi Pragya Thakur

मालेगांव केसः  रिहा हुईं साध्वी प्रज्ञा, शहीद हेमंत करकरे पर साधा निशाना

मालेगांव बम धमाका मामले की मुख्य आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने जेल से बाहर आते ही कांग्रेस और एटीएस पर कई आरोप मढ़े हैं। साध्वी ने कहा, "मैं इस केस में कांग्रेस के साजिश की शिकार हुई हूं। हकीकत में भगवा आतंकवाद कांग्रेस की देन है।
Miscellenous India »
Lokpal law as it stands is workable legislation: SC

SC का केन्द्र को निर्देश, तत्काल लागू करें लोकपाल अधिनियम

उच्चतम न्यायालय ने गुरुवार को केन्द्र सरकार को निर्देश दिया कि वह बिना देरी किए लोकपाल अधिनियम को मौजूदा स्वरूप में ही लागू करे। अदालत ने कहा कि मौजूदा स्वरूप में भी लोकपाल विधेयक भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने में सक्षम है और प्रस्तावित संशोधन के बगैर भी इसे लागू किया जा सकता है।
More From
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???