Patrika Hindi News

एक मात्र लैब टेक्नीशियन के सहारे चल रहा है काम

Updated: IST Working with the support of a mere lab Technician
जिला अस्पताल में लोगों को सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। यहां पर स्थित एक्स-रे लैब में आए दिन ताला लगने के चलते पीडि़तों को काफी परेशान होना पड़ रहा है।

आगर-मालवा. जिला अस्पताल में लोगों को सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। यहां पर स्थित एक्स-रे लैब में आए दिन ताला लगने के चलते पीडि़तों को काफी परेशान होना पड़ रहा है। यहां पर पदस्थ टेक्नीशियन के अवकाश पर जाने के चलते सोमवार को कुछ इसी प्रकार की स्थिति निर्मित हुई। जब मरीज यहां एक्स-रे करवाने पहुंचे तो लैब के बाहर ताला लटका मिला। इस कारण सुबह ओपीडी के समय मरीजों को एक्स-रे करवाने के लिए खासा परेशान होना पड़ा।
जिला अस्पताल में स्थित एक्स-रे लैब में एक से अधिक टेक्नीशियन के साथ ही अन्य स्टॉफ होना चाहिए। जब यह लैब चालू हुई थी, तब यहां पर दो टेक्नीशियन थे। एक परमानेंट तथा एक संविदा पर था। संविदा पर पदस्थ टेक्नीशियन के चले जाने के कारण यहां पर एकमात्र टेक्नीशियन रह गया। अस्पताल में आने वाले सभी मरीजों का एक्स-रे करने का काम इसी एक टेक्नीशियन के हाथ में आ गया। मरीजों की सुविधा के लिए कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की जाती है। लैब में ताला लगाना मजबूरी बन जाता है।
सोमवार को भी कुछ ऐसा ही हुआ। यहां पर पदस्थ टेक्निशियन के अवकाश जाने के कारण जिम्मेदारो ने वैकल्पिक व्यवस्था करने की बजाए यहां पर ताला लगा रहना ही मुनासिब समझा। इससे एक्स-रे करवाने वाले मरीजो का काफी परेशान होना पड़ा।
पहले भी निर्मित हुई है एेसी स्थिति
कुछ माह पूर्व भी एक्स-रे टेक्नीशियन के 15 दिनों के पितृत्व अवकाश पर चले जाने के कारण इस लैब का संचालन नहीं किया गया था। उस समय भी चिकित्सकों ने मरीजों को एक्स-रे करवाने का लिखा। टेक्नीशियन के न होने के कारण मरीजों को खासा परेशान होना पड़ा था। जब मरीज ज्यादा परेशान हो गए तो मजबूरीवश एक्सरे टेक्निशियन को पितृत्व अवकाश पूरा नहंी होने के बावजूद काम पर लौटनापड़ा था।
बाहर एक्स-रे करवाने को मजबूर
जिला अस्पताल मे एक्स-रे लैब बंद होने के चलते सबसे ज्यादा परेशानी आर्थिक रूप से अक्षम लोगों को उठाना पड़ती है। दूसरे लोग को जैसे-तैसे बाहर की लैब पर एक्स करवा लेते हैं लेकिन गरीब लोग एक्स- रे नहीं करवा पाते है। बाहर एक्स करने का काफी अधिक शुल्क लिया जाता है।
&यहां पर केवल एक मैं ही एक्स करने का काम संभालता हूं, जबकि यहां एक से अधिक टेक्नीशियन होना चाहिए। मैं अवकाश पर जा ही नहीं पाता। पितृत्व अवकाश लेने का अधिकार सभी शासकीय कर्मचारियों को है, लेकिन मैं पहले भी पितृत्व अवकाश छोड़कर काम संभालने आया था। सोमवार को भी अति आवश्यक काम आने के कारण मैं बाहर गया था प्रशासनिक स्तर पर यहां पर एक और टेक्नीशियन की नियुक्ति की जाना चाहिए।
महेश रावल, एक्स-रे टेक्नीशियन, जिला अस्पताल आगर
एक्स-रे टेक्नीशियन के रूप में एक ही कर्मचारी जिला अस्पताल में पदस्थ हैं। उसका भी अपना एक पारिवारिक जीवन है। कभी-कभी वह अवकाश पर चला जाता है। उस समय परेशानी निर्मित हो जाती है। इस समस्या से हमने संयुक्त संचालक को अवगत करा रखा है।
एसके पालीवाल, सीएस जिला अस्पताल

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???