Patrika Hindi News

Photo Icon क्या आपने देखा है झुन-झुन कटोरा, पीएम मोदी दिखाएंगे

Updated: IST jhun jhun katora
आगरा के लघु स्मारकों को लोकप्रिय बनाने की मांग पीएम मोदी से गई है। पीएम ने इस पर सकारात्मक रुख अपनाया है।

आगरा। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के आगरा सर्किल के 265 संरक्षित स्मारकों के इतिहास, वास्तुकला एवं चित्रों को बेबसाइट पर प्रदर्शित करने की मांग आगरा डवलपमेन्ट फाण्डेशन (एडीएफ) ने की है। प्रधानमंत्री की वेबसाइट के माध्यम से यह मांग उठाई गई। केन्द्रीय संस्कृति मंत्रालय ने इस मांग पर विचार करने के लिए डॉ. टी.जे. अलोन, निदेशक (स्मारक) एएसआई को पत्र भेजा है।

battis khamba
बत्तीस खंबा.रामबाग के निकट, यमुना किनारे

आगरा में 265 स्मारक संरक्षित
मांग में यह उल्लेख किया गया कि एएसआई के आगरा सर्किल में केन्द्र सरकार द्वारा संरक्षित 265 स्मारक हैं। ताजमहल, आगरा किला व फतेहपुर सीकारी विश्वदाय स्मारक हैं एवं अकबर का मकबरा, मरियम टोम, एत्माददौला, मेहताब बाग व रामबाग स्मारकों को देखने के लिए प्रवेश शुल्क देना पड़ता है। मात्र इन 8 स्मारकों का संक्षिप्त विवरण एएसआई की बेबसाइट पर है। शेष 257 स्मारकों का कोई विवरण, इतिहास, निर्माण की समय, व वास्तुकला की विशिष्टताओं को लेकर कोई भी सामग्री, चित्र या विवरण एएसआई की बेबसाइट पर नहीं है। ये स्मारक भी राष्ट्रीय महत्व के हैं।

chini ke roza
चीनी का रोजा, यमुना पार

एएसआई अपनी वेबसाइट पर डाले चित्र
एडीएफ के सचिव केसी जैन ने यह मांग प्रधानमंत्री की बेबसाइट पर उठाई कि सभी संरक्षित स्मारकों का विवरण बेबसाइट पर हो ताकि इन विरासतों के इतिहास एवं वास्तुकला के महत्व को शहरवासी एवं पर्यटक रूबरू हो सकें। इससे इन स्मारकों की लोकप्रियता में भी वृद्धि होगी। सचिव जैन द्वारा यह भी कहा गया कि विभिन्न कोणों से लिए गये स्मारकों के चित्र भी एएसआई अपनी बेबसाइट पर पोस्ट करे।

jaswant singh
जसवंत सिंह की छतरी, बल्केश्वर

गूगल मैप के सहारे विदेशी पर्यटक भी देख सकेंगे
उन्होंने कहा कि चित्र वेबसाइट पर डालने का लाभ यह होगा कि इन स्मारकों के प्रति अपनेपन की भावना उत्पन्न होगी जो इनके संरक्षण के लिए अति लाभप्रद होगी। गूगल मैप पर इनकी लोकेशन के सहारे विदेशी पर्यटक भी इन स्मारकों को देख सकेंगे। हेरिटेज सप्ताह के चलते इस मांग को एडीएफ द्वारा डॉ. महेश शर्मा, केन्द्रीय राज्य पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) तक भी पहुंचाया गया है।

इन स्मारकों के लिए सिटी टूर बनाया जाए
एडीएफ के अध्यक्ष पूरन डाबर एवं संयुक्त सचिव राकेश गर्ग ने भी आगरा में पर्यटकों के प्रवास को बढ़ाने के लिए चीनी का रोजा, रामबाग, हैसिंग टोम, जसवंत सिंह की छतरी व मेहताब बाग आदि को लोकप्रिय बनाने और उनको देखने के लिए सिटी टूर पर्यटकों के लिए शीघ्र शुरू करने की बात भी कही। उनका कहना था कि जब तक विरासतों को लोगों से नहीं जोड़ेंगे, तब तक उनको संरक्षित रखने का महत्व ही कम हो जायेगा।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???