Patrika Hindi News

> > > > major Inelegance in Government School

यहां बीता जा रहा सत्र, नहीं आईं बच्चों की​ किताबें

Updated: IST Education
राजकीय स्वच्छकार आश्रम ​पद्धति में सत्र समाप्ति की ओर बढ़ने के बाद भी किताबें उपलब्ध नहीं हो सकी हैं।

आगरा। सीबीएसई की तर्ज पर यूपी के स्कूल, कॉलेजों में शिक्षा का स्तर तैयार किया जा रहा है। सरकार बच्चों के लिए पढ़ाई की सामग्री उपलब्ध करा रही है, लेकिन राजकीय स्वच्छकार आश्रम ​पद्धति में सत्र समाप्ति की ओर बढ़ने के बाद भी किताबें उपलब्ध नहीं हो सकी हैं।

जुलाई सत्र में आनी चाहिए

सभी स्कूलों में सीबीएसई के समान शिक्षा का प्रावधान है। राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की सदस्य डॉ. ज्योत सिंह ने भी यहां निरीक्षण किया था। बच्चों ने उन्हें जानकारी दी थी उन्हें पढ़ने के लिए किताबें नहीं मिली हैं। बच्चों ने डॉ.ज्योति सिंह को अवगत कराया था कि विद्यालय में उन्हें पढ़ाई करने में काफी दिक्कतों की समस्या होती है।

आवासीय विद्यालय में हावी हैं अव्यवस्थाएं

इटौरा के स्वच्छकार आश्रम पद्धति विद्यालय में अव्यवस्थाओं का बोलबाला है। सूत्रों के मुताबिक स्कूल में बच्चों के​ लिए खेलकूद की सुविधा नहीं है। यहां व्यायाम शिक्षक नहीं है। वहीं स्कूली बच्चों की पढ़ाई के लिए आने वाली किताबें समय से नहीं पहुंचती हैं। ऐसे में बच्चों को स्कूली शिक्षकों को भी पढ़ाने में समस्याएं पैदा हो रही हैं।

अधीक्षिका के निलंबन के बाद पढ़ाने आए एक शिक्षक

विद्यालय में अनियतिताओं के हावी होने की जानकारी जिला प्रशासन को मिली थी। बच्चों के हितों में कार्य करने वाली संस्था क्यूआरसी के रीजनल कोआॅर्डिनेट नरेश पारस ने इस मुद्दे को गंभीरता से लिया था। उन्होंने बच्चों के हितों में आवाज उठाई थी। संस्था के प्रयासों के बाद यहां की अधीक्षिका को हटाया गया था। सूत्रों ने बताया कि पूर्व अधीक्षिका के एक रिश्तेदार ने तीन साल में पहली बार बच्चों की क्लास ली। बताते हैं कि जब तक अधीक्षिका की तैनाती थी, वे कभी क्लास लेने नहीं आए।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे