Patrika Hindi News

ये काम मां ही कर सकती है, जानिए पूरी कहानी

Updated: IST anita
उसने प्यार का नाटक करके अपहर्ता के चंगुल से अपनी बेटी को मुक्त करा लिया।

आगरा। मां अपने बच्चे के लिए कुछ भी कर सकती है। यहां तक कि प्यार का नाटक भी कर सकती है। जासूस भी बन सकती है। यह कर दिखाया है मां अनीता ने। उसने प्यार का नाटक करके अपहर्ता के चंगुल से अपनी बेटी को मुक्त करा लिया। पुलिस तो कुछ कर ही नहीं रही थी।
30 दिसम्बर को किया था अपहरण
घटनाक्रम शुरू होता है 30 दिसम्बर, 2016 से। जीतू और अनीता अलबतिया (थाना शाहगंज) में रहते हैं। उनके घर 30 दिसम्बर को मोतीमहल, एत्माउद्दौला निवासी राजू आया। उसने स्वयं को टोरंट कर्मचारी बताया। जीतू को अपनो मोबाइल नम्बर भी दिया। फिर वह न जाने कैसे जीतू की तीन साल की बेटी चंचल को उठा ले गया। इसके बाद उसने अपना मोबाइल बंद कर लिया।
मोबाइल पर बात करके फँसाया
मां अनीता पुलिस के पास पहुंची। पुलिस ने शुरुआत में कुछ प्रयास किए, लेकिन अपहर्ता नहीं मिला। पुलिस चुपचाप बैठ गई। मां अनीता ने हार नही मानी। उसने पति जीतू से मशविरा किया और स्वयं ही अपहर्ता को ढूंढने का निश्चय किया। जीतू के पास राजू का मोबाइल नम्बर था ही। वह लगातार फोन करती रही। आठ दिन बाद मोबाइल खुला। अनीता ने बातचीत में राजू से कहा कि वह वह अपने पति और परिवार से परेशान है। टोरंट में नौकरी दिलाने की ख्वाहिश जाहिर की। उसने अपना नाम बबीता निवासी केके नगर, सिकंदरा बताया।

प्यार का नाटक
बातचीत चलती रही। रात में भी बात करती। यह भी कहती कि उसके बच्चे नहीं है। राजू को यकीन हो गया कि बबीता (वास्तविक नाम अनीता) प्यार करती है। राजू ने कई बार मिलने के लिए बुलाया, लेकिन वह नहीं पहुंचा। अनीता ने वैलेनटाइन डे पर राजू से कहा कि अगर वह वाकई प्यार करता है तो मिलने जरूर आएगा। सिकंदरा स्मारक में मिलने का स्थान तय हुआ। इस पर राजू ने 15 फरवरी को समय दिया।
सिकंदरा में हाथ मिलाते ही घेरा
अनीता 15 फरवरी को शाम चार बजे सिकंदरा स्मारक में पहुंच गई। अनीता के साथ पुलिस सादा कपड़ों में थी। राजू ने वहीं से अनीता को फोन किया और साड़ी का रंग बताने को कहा। फिर राजू जैसे ही अनीता के पास पहुंचा, अनीता ने हाथ मिलाया। इसके साथ ही पुलिस ने राजू को घेर लिया। राजू बड़ा शातिर निकला। वहां से भाग निकला, लेकिन सेन्ट्रल पार्क, आवास विकास कॉलोनी में पकड़ा गय़ा। इसके साथ ही चंचल को भी बरामद कर लिया गया।
ये है जासूसी की बातें
अनीता ने पुलिस के साथ मिलकर तय किया था कि वह जिससे हाथ मिलाए, वही अपहर्ता है। इसी आधार पर पुलिस ने राजू को पकड़ा। प्यार का नाटक कर अपराधी को पकड़ने का आइडिया क्राइम पेट्रोल सीरियल से मिला। मां के लिए मशहूर शायरमुनव्वर राना ने ठीक ही कहा है-
मेरी ख़्वाहिश है कि फिर से मैं फ़रिश्ता हो जाऊँ
माँ से इस तरह लिपट जाऊं कि बच्चा हो जाऊँ..।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???