Patrika Hindi News
UP Election 2017

डिजिटल युग में ‘लीडर’ बनना है तो यहां आइए

Updated: IST ak singh
विशेषज्ञों का कहना है कि सिर्फ गैजेट्स का उपयोग करना ही सबकुछ नहीं है। सबसे बड़ी बात है डिजिटल युग में स्वयं को लीडर कैसे बनाया जाए?

आगरा। पूरी दुनिया में डिजिटल क्रांति है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भारत को भी डिजिटल करना चाहते हैं। डिजिटल युग में विभिन्न प्रकार के गैजेट्स का प्रयोग किया जा रहा है। रोबोट में भी दिमाग डाला जा रहा है। विशेषज्ञों का कहना है कि सिर्फ गैजेट्स का उपयोग करना ही सबकुछ नहीं है। सबसे बड़ी बात है डिजिटल युग में स्वयं को लीडर कैसे बनाया जाए? डिजिटल लीडरशिप न होने के कारण ही नोकिया, कोडक, जीरोक्स, पाम जैसी तमाम कंपनियां बाजार से बाहर हो गईं।

कॉरपोरेट जगत के मानक फिर से तय होंगे
डॉ. एमपीएस ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के चेयरपर्सन स्क्वाड्रन लीडर एके सिंह ने बताया कि डिजिटल युग में परंपरागत लीडरशिप पर प्रश्नचिह्न लगा दिया है। बौद्धिक लब्धि का स्थान अब भावनात्मक लब्धि और डिजिटल लब्धि ने ले लिया है। अब स्टार्ट-अप की बात हो रही है। इसके चलते कॉरपोरेट जगत में जो मानक बने हैं, वे फिर से लिखे जाने के कगार पर हैं।

संतुलन की जरूरत
उन्होंने बताया कि डिजिटल तकनीकियों में मोबाइल, कृत्रिम बुद्धिमत्ता, बड़े आकड़ों का विश्लेषण, इंटरनेट, सोशल नेटवर्किंग, क्लाउड, रोबोटिक्स की हमारे दैनिक जीवन में महती भूमिका है। वर्तमान परिदृश्य में एक लीडर होने के नाते तकनीकी, आर्थिक और सामाजिक प्रभाव को देखते हुए बेहद संतुलन की जरूरत है। क्या हम इसके लिए तैयार हैं?

आज शुरु होगा राष्ट्रीय सेमिनार
श्री सिंह ने बताया कि इस विषय पर डॉ. एमपीएस ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के कॉलेज ऑफ बिजनेस स्टडीज एवं कॉलेज ऑफ होटल मैनेजमेंट की ओर से राष्ट्रीय सेमिनार होने जा रहा है। उद्घाटन 17 फरवरी, 2017 को डॉ. भीमराव अंबेडकर विवि के खंदारी परिसर स्थित जेपी सभागार में प्रातः 9.30 बजे होगा। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अऱविन्द कुमार दीक्षित, प्रमुख वक्ता के रूप में आईआईएम इंदौर से डॉ. केके जैन, ग्रुप कैप्टन जोशी, डॉ. एमपीएस ग्रुप की को-चेयरपर्सन नीलम सिंह आदि भाग लेंगे। समाज को दिशा देने वाले शोधपत्र भी प्रस्तुत किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि 18 फरवरी, 2017 को संगोष्ठी के तकनीकी सत्र डॉ. एमपीएस कॉलेज में होंगे। उन्होंने कहा कि जिन्हें डिजिटल लीडरशिप विकसित करनी है, वे राष्ट्रीय सेमिनार में जरूर भाग लें।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???