Patrika Hindi News

> > > > Private agency surveying for BJP candidate selection

पर्दे के पीछे है भाजपा का 'PK'! दो एजेंसी कर रहीं प्रत्याशी चयन के लिए सर्वे

Updated: IST BJP UP ELECTION
सपा, कांग्रेस के बाद बीजेपी भी बेहद गुप्त तरीके से एक प्राइवेट एजेंसी का सहारा ले रही है। यह एजेंसी बीजेपी से टिकट की दावेदारी कर रहे लोगों के भाग्य का फैसला करेगी।

आगरा। आगामी विधानसभा चुनाव में जीत के लिए भाजपा एक सीक्रेट प्लान के तहत कार्य कर रही है। इस प्लान के तहत फिलहाल प्रत्याशी चयन की प्रक्रिया पर कार्य किया जा रहा है। कांग्रेस, समाजवादी पार्टी के बाद अब भाजपा भी उत्तर प्रदेश विधानसभा 2017 चुनावों के लिए एक प्राइवेट एजेंसी का सहारा ले रही है। यह प्राइवेट एजेंसी भाजपा से टिकट की दावेदारी कर रहे लोगों के भाग्य का फैसला करेगी।

नेताओं को नहीं कानों कान खबर

उत्तर प्रदेश चुनाव में बेड़ा पार लगाने के लिए कांग्रेस ने प्रशांत किशोर पर भरोसा जताया है तो वहीं समाजवादी पार्टी लंदन के सबसे महंगे चुनाव कैंपेनर्स में से एक गेराल्ड जे ऑस्टिन की सर्विस ले रही है। इससे अलग भजपा जिस प्राइवेट एजेंसी का सहारा ले रही है उसके बारे में भाजपा नेताओं को भी कानों कान खबर नहीं है। बेहद सी गुप्त तरीके से यह प्राइवेट एजेंसी विधानसभा वार प्रत्य़ाशी दावेदरों का दम परख रही है, यह एजेंसी भाजपा की ब्रांडिंग के बजाय फिलहाल सिर्फ प्रत्याशियों के लिए सर्वे कर रही है।

यह भी पढ़ें- EXCLUSIVE पढ़िए, पहले राउंड के लिए भेजे गए भाजपा से टिकट दावेदारों के नाम

बैंगलूरू की है एजेंसी

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जो प्राइवेट एजेंसी बृज क्षेत्र में भाजपा के लिए कार्य कर रही है वह बैंगलूरू की है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक यह एजेंसी महाराष्ट्र चुनाव में भी भाजपा के लिए कार्य कर चुकी है। अब यह उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए जिताऊ भाजपा प्रत्याशियों की तलाश कर रही है। जानकारी के मुताबिक आगरा की चार विधानसभा सीटों पर सर्वे कार्य पूर्ण हो चुका है। जिसकी रिपोर्ट दिल्ली पहुंच चुकी है। बाकी बची पांच विधानसभा सीटों पर सर्वे कार्य जारी है, जो जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा।

जिले में पांच आईटी एक्सपर्ट ने डाला डेरा

एजेंसी द्वारा किए जा रहे सर्वे कार्य का डेटा कलेक्शन कर दिल्ली भेजने के लिए जिला मुख्यालय पर पांच आईटी एक्सपर्ट भी डेरा डाले हुए हैं। इनमें से चार एजेंसी की तरफ से हैं वहीं एक व्यक्ति अलग से है। यह आईटी टीम भी लोकल भाजपा नेताओं की पहुंच से दूर है। पूरे कार्य को बेहद ही गुप्त तरीके से अंजाम दिया जा रहा है।

यह भी पढ़ें- सपा के बाद भाजपा में सुलग रही आग, जल्द हो सकता है गृह युद्ध

आरएसएस की अलग है टीम

जानकारी के मुताबिक एक टीम आरएसएस की भी इस कार्य को गपचुप तरीके से अंजाम दे रही है। हालांकि प्राइवेट एजेंसी से कोई ताल्लुक नहीं है। आरएसएस अलग स्तर पर एक टीम से सर्वे करा रहा है जो संघ नेतृ्तव के अलावा राम माधव को अपनी रिपोर्ट सौंप रही है। हालांकि पहले रणनीति बनाई गई थी कि पार्टी संगठन के कुछ चुनिंदा लोगों की निगरानी में एक पंद्रह सदस्यीय टीम गठित होगी जो इस कार्य में सहभागिता करेगी लेकिन एन वक्त पर यह फैसला बदल दिया गया और एजेंसी को स्वतंत्र और सीक्रेट तरीके से कार्य अंजाम करने का निर्णय लिया गया।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे