Patrika Hindi News

Video Icon योग दिवसः ये आसन आपके लिए है बहुत उपयोगी, देखें वीडियो

Updated: IST yoga
Yogaकरने से ये मिलेंगे फायदे।

आगरा। आज सबसे बड़ी समस्या है स्वास्थ्य की। कहते हैं स्वस्थ शरीर है, तो आप कुछ भी कर सकते हैं। अब सवाल ये है, कि स्वस्थ शरीर पाएं कैसे। योगाचार्य अभिनव चतुर्वेदी ने बताया कि कुछ आसान आपके लिए बहुत उपयोगी हैं, जिन्हें प्रतिदिन करने से आप के पास रोग भटकेंगे भी नहीं।

भुजंगासन दिलाता है इन रोगों से मुक्ति
रोजमर्रा की इस जिंदगी में अधिकतर लोग कमर और पीठ दर्द की समस्या से परेशान हैं। वैसे तो यह आम समस्या है, लेकिन कई बार ध्यान नहीं दिए जाने पर यह समस्या बहुत अधिक बढ़ जाती है, इससे निजात पाने के लिए आपको ऐसे व्यायाम की जरुरत है जो आपकी रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाए। योग के आसनों में शामिल भुजंगासन इसमें आपकी मदद कर सकता है। यह आसन ना केवल आपको पीठ और कमर दर्द बल्कि कई शारीरिक परेशानियों से मुक्ति दिलाता है।

देखें वीडियो -

सर्वांग आसन
सर्वांग आसन का अर्थ है ऐसा आसन जिसको करने से शरीर के रोग दूर होकर शरीर में स्वर्ग की तरह सुख की अनुभूति हो। इस आसन से कुण्डलिनी शक्ति को जगाने में मदद मिलती है। यह शरीर में विष का नाश कर जीवनी शक्ति का विकास करता है।

देखें वीडियो -

गोमुख आसन
गोमुख आसन शरीर को सुडौल बनाने वाला योग है। योग की इस मुद्रा को बैठकर किया जाता है। गोमुख आसन स्त्रियों के लिए बहुत ही लाभप्रद व्यायाम है।

सेतु बांध आसन
सेतु बांध आसन पेट की मांसपेशियों और जंघों के एक अच्छा व्यायाम है। जब आप इस योग का अभ्यास करते है तो शरीर में उर्जा का संचार होता है।

दंडासन
बैठकर किये जाने वाले योगों में एक है दंडासन। इस योग की मुद्रा का नियमित अभ्यास करने से हिप्स और पेडू में मौजूद तनाव दूर होता है और इनमें लचीलापन आता है।

कमर पीठ का दर्द दूर करता ये आसन
वज्रासन बैठकर किया जाना जाने वाला योग है। शरीर को सुडौल बनाने के लिए किया जाता है। अगर आपको पीठ और कमर दर्द की समस्या हो तो ये आसन काफी लाभदायक होगा। ऐसे ही भुजंग आसन का रोज अभ्यास से कमर की परेशानियां दूर होती हैं। ये आसन पीठ और मेरूदंड के लिए लाभकारी होता है।

हलासन भी करें
हलासन के रोज अभ्यास से रीढ़ की हड्डियां लचीली रहती है। वृद्धावस्था में हड्डियों की कई प्रकार की परेशानियां हो जाती हैं। यह आसन पेट के रोग, थायराइड, दमा, कफ एवं रक्त सम्बन्धी रोगों के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। वहीं बाल आसन से तनाव दूर होता है। शरीर को संतुलिच और रक्त संचार को सामान्य बनाने के लिए इस आसन को किया जाता है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???