Patrika Hindi News

सीबीएसई की राह पर जीएसईबी

Updated: IST ahmedabad
केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की राह पर चलते हुए गुजरात माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक

अहमदाबाद।केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की राह पर चलते हुए गुजरात माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (जीएसईबी) ने भी बोर्ड से संबद्ध सभी स्कूलों (निजी स्कूल सहित) को पाठ्यपुस्तक, स्टेशनरी, नोटबुक, स्कूल ड्रेस, बैग नहीं बेचने के निर्देश जारी किए हैं। किसी सुनिश्चित वेंडर के पास से किसी तय ब्रांड की वस्तुएं व स्टेशनरी खरीदने के लिए भी बाध्य नहीं किया जा सकता। ऐसा करने पर कार्रवाई की जाएगी।

गुजरात निजी स्कूल फीस नियमन विधेयक 2017 के जरिए फीस वसूलने में निजीस्कूलों मनमानी पर लगाम लगाने के बाद गुजरात के शिक्षा विभाग और जीएसईबी ने अब सीबीएसई के निर्देश का अनुकरण करते हुए यह निर्देश जारी किए हैं।

शिक्षामंत्री भूपेन्द्र सिंह चुड़ास्मा, शिक्षा राज्यमंत्री नानूभाई वानाणी ने शुक्रवार को बताया कि इस मामले में जीएसईबी के जरिए सभी जिला प्राथमिक शिक्षाधिकारियों को निर्देशों की पालना कराने के लिए निर्देश दिए जा चुके हैं। इन निर्देशों का कड़ाई से अमल हो इसके लिए सोमवार को सभी जिला शिक्षाधिकारियों की एक बैठक भी बुलाई गई है। जिसमें इन निर्देशों की विस्तृत जानकारी दी जाएगी।

जीएसईबी की ओर से जारी निर्देश में जीएसईबी से संबद्धता प्राप्त सभी निजी व अनुदानित स्कूलों को शैक्षणिक कार्य के अलावा किसी भी प्रकार की व्यावसायिक या फिर व्यापारिक प्रवृत्तियों से दूर करने के लिए कहा गया है।

चुड़ास्मा ने बताया कि जून 2017 नया शैक्षणिक सत्र शुरू होने वाला है। ऐसे में राज्य बोर्ड की कोई भी स्कूल अभिभावकों को स्कूल से पाठ्पुस्तक, नोटबुक, स्कूल बैग, यूनिफॉर्म या स्टेशनरी खरीदने के लिए मजबूर नहीं कर सकता है। या फिर किसी वेन्डर के पास से खरीदने के लिए बाध्य नहीं किया कर सकता है। ना ही किसी सुनिश्चित ब्रांड के कपड़े, जूते या यूनिफॉर्म या फिर अन्य वस्तुएं खरीदने को बाध्य किया जा सकता है।

गुजरात में शिक्षा विभाग के एक जुलाई 2011 को जारी किए गए प्रस्ताव में निजी स्कूलों की व्यवस्थापन नीति तय की गई है। उसमें इस प्रकार की गतिविधियों से दूर रहने के लिए चेताया गया है। इन निर्देशों की पालना कराने को कहा गया है। ज्ञात हो कि दो दिन पहले ही सीबीएसई ने इस मामले में मनमानी करने वाले उससे संबद्ध स्कूलों को ऐसा ना करने के लिए चेताते हुए निर्देश जारी किए हैं।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???