Patrika Hindi News

जाधव पर जद्दोजदह : जीता भारत

Updated: IST ahmedabad
अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की फांसी पर अंतरिम

अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की फांसी पर अंतरिम रोक का चहुंओर स्वागत किया जा रहा है। इस खुशी के अवसर पर अहमदाबाद के मणिनगर इलाके में आतिशबाजी की गई। कईयों ने इसे विश्व कूटनीति परिदृश्य में भारत की सफलता करार दिया। पत्रिका ने अपने कुछ पाठकों से इस संबंध में उनकी राय जाननी चाही। पेश है कुछ पाठकों की राय :

सत्य की जीत

कुलभूषण जाधव की फांसी पर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के अंतिम रोक लगाने से असत्य पर सत्य की जीत हुई है। सत्य की कभी हार नहीं होती। जिस व्यक्ति के लिए पूरा देश खड़ा हो और जिसके साथ देश की दुआ हो, उसे कुछ भी नहीं हो सकता। इस फैसले को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की विश्व के फलक पर कूटनीतिक जीत भी कही जा सकती है। इस मामले में पाकिस्तान का मुंह की खाना निश्चित था। जाधव के मामले में भारत व उसके लोगों की जीत हुई है।

हर्षित पाठक, मां जानकी सेवा समिति

साजिश में विफल रहा पाक

कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान में फांसी की सजा घोषित करने के मामले में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय जाधव की फांसी को फिलहाल स्थगित रखने का फैसला काफी सराहनीय है। इस फैसले से एक बार फिर से न्याय की जीत निश्चित लग रही है। पूर्वाग्रह के चलते पाकिस्तान निर्दोष को आतंकी बताकर भारत को बदनाम करने की साजिश में विफल रहा है।

एम.के सिंह, प्रदेश अध्यक्ष-अ.भा नवोदय विद्यालय कर्मचारी संगठन।

पाक को करारा झटका

जाधव को पाकिस्तान में दी जाने वाली फांसी की सजा पर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय की ओर ले लगाई गई रोक का पूरा देश स्वागत कर रहा है। पाक के लिए एक तरह से यह करारा झटका भी है। इस निर्णय से पूरी दुनिया में शांति का संदेश जाएगा। भारत सरकार के प्रयास की भी सराहना की जानी चाहिए।

सोमनाथ गुप्ता, अहमदाबाद

पाकिस्तान को तमाचा

पाकिस्तान के दावे को खारिज करते हुए अंतरराष्ट्रीय अदालत ने भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगा पाकिस्तान के गाल पर करारा तमाचा लगाया है। भारत की ओर से वकील हरीश साल्वे ने जो ठोस तर्क अदालत के समक्ष रखे उसे अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने भी माना। जाधव को जिस तरह से जासूसी के गलत आरोप में पाकिस्तान में गिरफ्तार किया गया है उसकी हकीकत पूरी दुनिया जान गई है।

सम्पत लोहार, अहमदाबाद

भारत की जीत

कुलभूषण जाधव के मामले में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का फैसला स्वागत योग्य है। इस फैसले से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की जीत हुई है। इसे भारत की कूटनीतिक जीत भी माना जा सकता है।इलियास वोहरा, आणंद

पाकिस्तान के गलत इरादे नाकाम

अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने जाधव की फांसी पर रोक लगाकर पाकिस्तान के गलत इरादों को नाकाम किया है। इस फैसले से पाकिस्तान की हार हुई है, जबकि भारत की विजय हुई है।

कमलेश डाभी, सरदार पटेल विवि के सीनेट सदस्य

जाधव के सुरक्षित लौटने की आशा

जाधव को पाकिस्तान की अदालत ने फांसी की सजा सुनाई थी। इस फैसले पर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने रोक लगा दी है। इससे पाकिस्तान को जबरदस्त झटका लगा है। इन परिस्थितियों में जाधव की फांसी की सजा रद्द होने व उनके भारत सुरक्षित लौटने की आशा है।

अल्पेश पढियार, आणंद नगरपालिका में विपक्ष के नेता

फांसी की सजा रद्द करें

अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के फैसले का पूरा देश स्वागत कर रहा है। फांसी की सजा पर सिर्फ रोक ही नहीं, अपितु सजा रद्द की जानी चाहिए। जाधव को सुरक्षित भारत भेजा जाना चाहिए।

एम. जी. गुजराती, जमीयत-ए-उलेमा-ए हिंद के महासचिव, आणंद

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???