Patrika Hindi News
UP Scam

पीएम की योजना के नाम पर हुए फर्जीवाड़े की जांच के आदेश

Updated: IST Patrika Impact
बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना के नाम पर हो रही ठगी पर रोक लगाने के लिए प्रशासन ने आदेश दिए हैं।

अलीगढ़। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना के नाम पर हो रही ठगी पर रोक लगाने के लिए प्रशासन ने आदेश दिए हैं। जिलाधिकारी ने पत्रिका की खबर का संज्ञान लेने के बाद इस योजना के तहत फार्म भरवाने वाले और फार्म बेचने वालों पर सीधे मुकदमा दर्ज करने के आदेश इलाका पुलिस को दिये हैं। इतना ही नहीं जिले भर में व्यापक पैमाने पर भरे गए फार्म कहां छापे गए और किसने बेचे इसकी जांच के भी आदेश जारी किए गए हैं।

ये था मामला

महानगर में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान योजना के अंतर्गत योजनाबद्ध रूप से एक गिरोह ने सक्रिय होकर युवतियों को 2 लाख रूपए दिलाने के जाल फैलाया। जिसके झांसे में आकर हज़ारों युवतियों ने स्थानीय पोस्ट ऑफिस के बाहर से और बाजार से इसके फॉर्म ख़रीदे जो 5 रुपए से 500 रुपए तक उपलब्ध हुआ फिर उनको भरवाकर उसे महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, भारत सरकार के दिल्ली कार्यालय में पोस्ट कराया जा रहा था। फार्म को भरकर भेजने वालों की भीड़ इतनी तेजी से बढ़ी की डाकघरों पर भीड़ जुटना शुरू हो गयी। जबकि भारत सरकार की ऐसी कोई योजना थी ही नहीं जिसके लिए भीड़ उमड़ रही थी। इस मामले में स्थानीय समाजसेवियों द्वारा भेजी गयी शिकायत को आधार बनाते हुये इस खबर को पत्रिका ने प्रमुखता से प्रकाशित किया, तब जिला प्रशासन हरकत में आया है। अब जिला प्रशासन ने मामले में जांच के आदेश जारी किए हैं।

फार्म बेचने और भरवाने वालों पर मुकदमा चलाने के आदेश

जिलाधिकारी ऋषिकेश भास्कर याशोद ने स्पष्ट किया है कि इस प्रकार की किसी योजना का संचालन तथा पंजीकरण जिला प्रशासन द्वारा नहीं कराया जा रहा है। उन्होंने जन सामान्य से अपील की है कि बिना किसी अधिकृत जानकारी किये उक्त योजना के फार्म न भरवाये जायें और न ही किसी अन्य धनराशि का भुगतान किया जाये। यदि कोई व्यक्ति उक्त योजना के लिए फार्म भरवाने के लिये धनराशि की मांग करता है तो उसके विरूद्ध जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, उप जिलाधिकारी अथवा सम्बन्धित थानाध्यक्ष को शिकायत की जाये जिससे दोषियों के विरूद्ध नियमानुसार दण्डात्मक कार्रवाई सुनिश्चित की जा सके।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???