Patrika Hindi News

हत्यारोपियों के जाल में फंसकर पुलिस तीन साल तक भटकती रही

Updated: IST accused murder case
तीन साल पहले हुई एक युवक की हत्या का सच अब सामने आया है।

अलीगढ़। थाना गांधी पार्क क्षेत्र में तीन साल पहले हुई एक युवक की हत्या का सच अब सामने आया है। पुलिस ने इस मामले का खुलासा कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। युवक की हत्या प्रेम प्रसंग के चलते हुई थी। आरोपियों ने वारदात के बाद ऐसी साजिश रची की थी कि तीन साल तक पुलिस उन पर शक ही नहीं कर सकी। इस दौरान 10 विवेचनाधिकारी भी बदल गए थे। इसके बाद एसएसपी राजेश पाण्डेय के निर्देश पर पुलिस ने गहनता से जांच पड़ताल की तो युवक की मौत का सच सामने आ गया।

प्रेम प्रसंग में हुई थी युवक की हत्या

एसएसपी राजेश कुमार पाण्डेय ने बताया कि 8 दिसंबर 2013 को भदेशी गांव के नजदीक से रेलवे लाइन पर एक युवक का शव शत-विक्षत हालत में मिला था। शिनाख्त न होने पर पुलिस ने फोटोग्राफी कराने के बाद युवक के शव का अंतिम संस्कार कर दिया था। इसी बीच 12 दिसंबर 2013 को नगला माली निवासी देवेंद्र शर्मा ने थानागांधी पार्क में अपनी बेटी को बहला-फुसलाकर भगा ले जाने का आरोप लगाते हुए जय कुमार नामक युवक के खिलाफ अभियोग पंजीकृत कराया। पुलिस ने जब विवेचना की तो पता चला कि देवेंद्र की 17 वर्षीय पुत्री प्रीती अपने मामा प्रमोद शर्मा निवासी बाबा कालोनी के घर परीक्षा देने आई थी। इसी दौरान उससे जय कुमार मिलने आया था। उसी दौरान उसकी हत्या कर दी गई थी।

क्या है पूरा मामला

एसएसपी ने बताया कि जांच के दौरान पता चला कि जय कुमार अपनी मां संध्या देवी के साथ जवाहर कॉलॉनी थाना सारन फरीदाबाद हरियाण में रहता था और देवेंद्र शर्मा उसी के पड़ोस में सुभाष चंद्र के मकान में किराए पर रहता था। देवेंद्र की पुत्री प्रीती और जय कुमार के बीच प्रेम संबंध था। प्रीती अलीगढ़ में डीएवी इंटर कॉलेज में इंटरमीडिएट की परीक्षा देने के लिए अपने मामा प्रमोद के घर आई थी। यह बात जय कुमार को पता चली कि प्रीती अलीगढ़ में है तो वो उससे मिलने आ पहुंचा। रात में प्रीती के मामा प्रमोद के घर में ही रूक गया। जय कुमार के आने की खबर प्रमोद को हो गई तो उसने जय कुमार को कमरे में बंधक बना लिया और अपने बहनोई देवेंद्र शर्मा को फोन से सूचना दे दी। जिस पर देवेंद्र शर्मा वहां पहुंचा और रात में ही जय कुमार को बाइक पर बैठा कर अपने रिश्तेदार विनोद कुमार निवासी अवतार नगर नई बस्ती ले गया। रेलवे लाइन के किनारे बने मकान में देवेंद्र और प्रमोद ने शराब पी। इसके बाद दोनों ने मिलकर अंगोछा से जय कुमार का गला घोंट कर मार डाला। हत्या के बाद शव को रेलवे लाइन पर फेंक दिया। जिससे जय कुमार के शव के टुकडे-टुकड़े हो गए।

शातिर तरीके से रची साजिश

जब देवेन्द्र को आशंका हुई कि जय कुमार की हत्या का भेद न खुल जाए इसके डर से उसने अपनी बेटी प्रीती को प्रमोद की ससुराल करसौरा थाना सादाबाद जिला हाथरस में राजू के घर भिजवा दिया। उधर देवेंद्र व प्रमोद ने थाना गांधी पार्क में प्रीती को भगा ले जाने की रिपोर्ट जय कुमार के विरूद्ध दर्ज करा दी थी और प्रीती का नाम बदल कर पूजा रखते हुए उसकी शादी कर दी। सब कुछ जानते हुए भी देवेन्द्र शर्मा अपनी पुत्री को बरामद करने के लिए पुलिस पर लगातार दबाव बनाता रहा और जय कुमार के परिजनों को भी डराता-धमकाता रहा।

ऐसे हुए हत्यारोप गिरफ्तार

जब सीओ अमित कुमार ने स्वयं पूरे प्रकरण का पर्यवेक्षण के दौरान मृतक जय कुमार की मां संध्या देवी से पूछताछ की तो उन्होंने जय कुमार की हत्या की आशंका जताई। जिस पर पुलिस ने रेलवे ट्रैक पर मिले शव के कपड़े एवं फॉरेसिंक टीम की फोटोग्राफी संध्या को दिखाई तो उन्होंने अपने पुत्र जय कुमार की शिनाख्त कर ली। इसी आधार पर पुलिस ने जय कुमार के हत्या के आरोपियों को देवेन्द्र शर्मा, प्रमोद शर्मा व प्रीती को गिरफ्तार कर लिया है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???