Patrika Hindi News

> > > > Headhunting fake gang busted in allahabad

नौकरी दिलाने फर्जी गिरोह का पर्दाफाश, फर्जी जीएम से लेकर काउंसलर तक पकड़ाए

Updated: IST arrested
लिखित परीक्षा से लेकर हुआ इंटरव्यू तक, ज्वाइंग लेटर लेकर पहुंचे तो उड़ गए होश

इलाहाबाद. पांच ठगों को कम समय में ज्यादा पैसा कमाने का ऐसा प्लान सूझा कि बारा पावर प्लांट का एक फर्जी जीएम तो एक कांसलर बन बैठा। दो कंपनी के मेंबर और एक जीएम का सलाहकार बना, जिसके बाद फर्जी वैकेंसी, फर्जी परीक्षा और फर्जी इंटरव्यू। खुलासा तब हुआ जब फर्जी परीक्षा में चयनित अभ्यर्थी कंपनी के अधिकारियों से जा भिड़े।

बारा पावर प्लांट के विकास को लेकर लगातार कार्य चल रहा है। इसी का फायदा उठाते हुए विकास मिश्रा, सुनील शर्मा, सुदामा, प्रभात कुमार, प्रदीप तिवारी जोकि बरौत, खिरी, बिहार सहित अन्य जगह के रहने वाले हैं। पांचों ने मिलकर बारा पाॅवर प्लांट में लोगों को नौकरी देने के नाम पर पैसा वसूलने की योजना बनाई। योजना के तहत विकास मिश्रा बारा पाॅवर प्लांट का जीएम बना, प्रभात कुमार उसका सलाहकार और प्रदीप तिवारी काउंसल बना।

इसके अलावा सुनील शर्मा और सुदामा कंपनी के सदस्य बने। इसके बाद अगस्त में बारा पाॅवर प्लांट में नौकरी दिलाने के नाम पर गरीब, जरूरतमंद और मजबूर बेरोजगार लोगों से फार्म भरवाया। फर्जी परीक्षा ली। परीक्षा के बाद इंटरव्यू में पास कराने व नौकरी दिलाने के नाम पर इन लोगों ने अभ्यर्थियों से लाखों रुपये मांगे। इसमें से काफी लोगों ने आधा पैसा जमा कर दिया। वहीं कुछ ने थोड़ा पैसा जमा किया। बाकी ज्वाइंनिग लेटर मिलने के बाद की शर्त रखी। विश्वास के तौर पर इन लोगों ने अभ्यर्थियों ने उनके असली अंकपत्र, प्रमाण पत्र सहित अन्य दस्तावेज जमा करवा लिए।

इन्होंने बारा पाॅवर प्लांट के एक कमरे में लिखित परीक्षा में पास अभ्यर्थियों का इंटरव्यू लिया। इंटरव्यू में उन्हीं अभ्यर्थियों को पास किया जिनसे पैसे मिलने की उम्मीद थी। वहीं जब अभ्यर्थी ज्वाइनिंग लेटर लेकर बारा पाॅवर प्लांट पहुंचे तो उन्हे पता चला किस वहां से कोई बैकेंसी ही नहीं निकली थी। जो ज्वाइंनिग लेटर मिला है वह फर्जी है। इसे सुनते ही अभ्यथियों के होश उड़ गए।

शंकरगढ़ एसओ संतोष शर्मा के अनुसार, मुखबिर की सूचना मिलते ही पांचों को घेराबंदी कर पकड़ लिया गया। फर्जी नौकरी दिलाने का यह गिरोह और भी बड़ा लग रहा है। इसके अलावा इस गिरोह में बारा पाॅवर प्लांट के किसी सदस्य के भी शामिल होने की बात सामने आ रही है। क्योंकि इन्होंने बारा पाॅवर प्लांट के अंदर ही इंटरव्यू लिया। जो बिना वहां के कर्मचारी के शामिल हुए संभव नहीं है।

हालांकि इसकी शिकायत एक युवक ने पहले ही की थी। उसी की शिकायत के आधार पर पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई थी। पकड़े गए आरोपी विकास (जीएम) के पास से 50 हजार, प्रदीप तिवारी (काउंसलर) के पास से एक लाख, प्रभात कुमार (जीएम सलाहकार) के पास 30 हजार, सदस्यों के पास से 15-15 हजार रुपये बरामद किए गए। साथ ही आधा दर्जन मोबाइल, दो मोटरसाइकिल, ज्वाइनिंग लेटर, अभ्यर्थियों के अंकपत्र, प्रमाणपत्र बरामद हुए हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे