Patrika Hindi News

समाजवादी पार्टी के लिए रबर स्टाम्प तो नहीं हैं अखिलेश यादव

Updated: IST Akhilesh Yadav
ललितकला एकेडमी के अध्यक्ष यामीन खान ने अम्बेडकर नगर के दौरे पर पत्रकारों से वार्ता के बाद जो बताया उससे तो स्थिति और भी स्पष्ट नजर आ रही है कि अखिलेश यादव मुख्यमंत्री भले ही बन जायें, लेकिन पार्टी में उनकी हैसियत कुछ खास नहीं रहेगी।

अम्बेडकर नगर। प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव और चाचा शिवपाल यादव के बीच चल रही नूरा कुश्ती और इस पर नई पार्टी बनाने, भाजपा में जाने जैसे तमाम अटकलों के बाद मुलायम सिंह द्वारा आगामी चुनाव में एक बार फिर अखिलेश को मुख्यमंत्री का चेहरा बताये जाने के बाद सपा ने डैमेज कंट्रोल कर लिया है। लेकिन इस रस्साकसी के बीच इतना तो तय हो चुका है कि भले ही अखिलेश को चुनावी चेहरा बनाकर वोट हासिल कर लें और एक बार फिर समाजवादी पार्टी की सरकार भी बन जाय, लेकिन मुख्यमंत्री के रूप में अखिलेश की हैसियत आज से कुछ बेहतर होने की उम्मीद नहीं है।

मुख्यमन्त्री के करीबी राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त

ललितकला एकेडमी के अध्यक्ष यामीन खान ने अम्बेडकर नगर के दौरे पर पत्रकारों से वार्ता के बाद जो बताया उससे तो स्थिति और भी स्पष्ट नजर आ रही है कि अखिलेश यादव मुख्यमंत्री भले ही बन जायें, लेकिन पार्टी में उनकी हैसियत कुछ खास नहीं रहेगी। यामीन शाह ने पत्रकारों से कहा कि चुनाव का नेतृत्व अखिलेश के पास है कि नहीं इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। आगामी विधान सभा चुनाव में अखिलेश ही मुख्यमंत्री का चेहरा होंगे। यामीन खान ने कहा कि प्रदेश को अखिलेश ने विकास की नई धारा दी है और अगले मुख्य मंत्री वही होंगे। लेकिन बड़ा सवाल यही है कि जब इस कार्यकाल में अखिलेश अपनी मर्जी से मंत्रिमंडल नहीं बना पाये तो फिर आने वाले दिनों में अगर फिर से सपा की सरकार बनीं और अखिलेश मुख्यमंत्री बनाये गए तो क्या उनकी चल पाएगी या वे रबर स्टाम्प की तरह ही काम करेंगे।

आलापुर विधान सभा क्षेत्र से टिकट बदलने की मांग हुई शुरू

आलापुर विधान सभा क्षेत्र से वर्तमान समाजवादी पार्टी के विधायक भीम प्रसाद सोनकर को इस बार टिकट न देकर किसी अन्य को इस क्षेत्र से चुनाव लड़ाने के लिए स्थानीय कार्यकर्ताओं ने दबाव बनाना शुरू कर दिया है। इसी कड़ी में राज्यमंत्री यामीन खान के आलापुर क्षेत्र में दौरे के दौरान सपा कार्यकर्ताओं ने उनसे आलापुर विधानसभा क्षेत्र से किसी एनी को सपा से उम्मीदवार बनाये जाने की मांग की है। कार्यकर्ताओं का आरोप है कि वर्तमान विधायक की कार्यशैली से न तो क्षेत्र के लोग संतुष्ट हैं और न ही कार्यकर्ता। ऐसे में अगर उन्हें हटाकर किसी अन्य को मैदान में नहीं उतारा गया तो पार्टी को नुकसान हो सकता है।

सपा विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष अश्विनी यादव उपाध्यक्ष इंतखाब आलम सुनील यादव एडवोकेट पूर्व प्रधान कलीम फारूकी कासिम बाबा सबिंदर यादव समेत कई अन्य कार्यकर्ताओं ने यामीन खान से कहाकि यदि यहां सपा का टिकट नहीं बदला गया तो पार्टी तीसरे स्थान पर चली जाएगी। बाद में सभी नें मंत्री को हस्ताक्षर युक्त मांगपत्र सौंप टिकट बदलने की मांग की।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???