Patrika Hindi News

> > > > On the death of the victim during the current electricity forest department dusted hands

शिकार के दौरान बिजली करंट से मौत पर वनविभाग ने झाड़ा पल्ला

Updated: IST current scorched
पुलिस मामले की विवेचना में बरत रही सुस्ती

अमरकंटक। अमरकंटक थाना से 18 किलोमीटर दूर बरसोत गांव में 19 सितम्बर सोमवार की शाम को बिजली की करंट में शिकार पर गए 30 वर्षीय युवक मुकेश पनिका पिता चैतूलाल पनिका के शव के साथ शिकार हुए सुअर के शव के मामले में वनविभाग परिक्षेत्र के अधिकारी ने अपना पल्ला झाड़ लिया है। घटना स्थल के आसपास से मिले जंगली सुअर के पैर के अवशेष पर वनपरिक्षेत्र अधिकारी अमरकंटक एनडी शर्मा ने उसे घरेलू सुअर का अवशेष कहा है। जबकि ग्रामीणों का कहना है कि घरेलू सुअर गांवों में किसी गड्ढे या तालाबों के किनारे पेट भरने के उपरांत शाम तक वापस घर लौट आते हैं। जबकि रात के समय जंगली सुअर ही जंगल में निकल सकते हैं। वहीं अमरकंटक पुलिस द्वारा युवक की गुमशुदगी से लेकर शव के पाए जाने के उपरांत मौत के सही कारणों तक पहुंचने में सुस्ती बरत रही है। वनपरिक्षेत्र अधिकारी का कहना है कि बिजली की करंट से जंगली जानवरों के शिकार की कोई घटना क्षेत्र में नहीं हुई और ना ही क्षेत्र में बिजली की करंट से जंगली जानवरों का शिकार किया जाता है। जबकि दूसरी ओर बरसोत के सरपंच पति राजेन्द्र सिंह का कहना है कि बिजली की करंट से शिकार का खेल बहुत पुराना है, लेकिन यह सत्य है कि घटनाओं की जानकारी वनविभाग को दिए जाने के बाद भी कभी वनविभाग का अमला क्षेत्र की निगरानी या फिर जांच पड़ताल के लिए कभी नहीं आया। सरपंच पति राजेन्द्र सिंह के अनुसार गांव सहित आसपास के युवकों द्वारा अबतक सैकड़ा से अधिक जंगली सुअरों का शिकार किया गया है। विदित हो कि बरसोत में मिले शव की सूचना वनसमिति बरसोत के अध्यक्ष रघुवंश सिंह के साथ सरपंच पति राजेन्द्र सिंह ने वनविभाग को दी। लेकिन कोई अधिकारी मौके पर नहीं आए।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे