Patrika Hindi News

> > > > The downturn in the closure business of Chanderi sari

नोट बंदी से चंदेरी साड़ी के कारोबार में भी मंदी

Updated: IST Ashok nagar
बुनकरों को मिलने वाले काम में आईकमी, पुराने नोटों से दी जा रही मजदूरी, कई करघे हुए बंद, व्यापार घटा

अशोकनगर. नोटबंदी के असर से चंदेरी साड़ी के कारोबार में भी मंदी आई है। साड़ी का व्यापार घटने से जहां व्यापारी परेशान हैं, वहीं बुनकरों को मिलने वाले काम में भी कमी आई है। इसके साथ ही पुराने नोटों से मजदूरी मिलने के कारण कुछ बुनकरों ने बुनाई का काम भी कम कर दिया है और मजदूरी करने लगे हैं।

उल्लेखनीय हैकि चंदेरी में बड़ी संख्या में लोग हथकरघा चलाकर साड़ी बनाने का काम करते हैं और इसी से उनकी आजीविका चलती है। चंदेरी साड़ी देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी फेमस है और इसके विकास के लिए कई तरह के प्रयास भी किए जा रहे हैं। लेकिन नोटबंदी ने इस पर भी असर डाला है।

500 और 1000 के पुराने नोट बंद होने के बाद उनकी आजीविका पर भी संकट के बादल मंडराने लगे हैं। इस संबंध में जब हस्तशिल्प प्रकोष्ठ के अध्यक्ष अशोक लालमणी से बात की गईतो उन्होंने बताया कि काम में करीब 40 प्रतिशत की गिरावट आईहै। जिसके कारण कईकरघे बंद पड़े हैं। साडिय़ों की बिक्री कम होने से उत्पादन में भी कमी आई हैऔर रेशम का भाव भी 3000 हजार से बढ़कर 5000 रुपए किलो पर पहुंच गया है। दूसरी ओर साड़ी के दाम घट गए हैं। साडिय़ों पर 500 से 1000 रुपए तक का अंतर आया है।

दूसरी ओर बुनकरों को मेहनताना पुराने नोटों में मिलना भी मुसीबत का सबब बना हुआ है। नोट बदलने या उन्हें जमा करने के लिए बुनकरों को बार-बार बैंकों की लाइनों में लगना पड़ रहा है। जिससे उनका काफी समय बर्बाद हो जाता है और उनके पास जो काम है, उसे भी वे समय पर पूरा नहीं कर पा रहे हैं। व्यापारी भी राशि निकासी की लिमिट तय होने के कारण नगदी नहीं निकाल पा रहे हैं, जिसके कारण मजदूरों को भुगतान में समस्या आ रही है।

चंदेरी में 6500 बुनकर और 4500 करघे हैं। साड़ी की बिक्री घटने के बाद बुनकरों को काम नहीं मिलने से इनमें से कई करघे बंद हो गए हैं और मजदूर बेकार बैठे हैं। मजबूरी में उन्हें दूसरी जगहों पर मजदूरी करनी पड़ रही है। जहां दुकानों पर हफ्ते में 20 साडिय़ां बनकर जाती हैं, वहां अब आठ से दस साडिय़ां ही पहुंच रही हैं। इससे बुनकरों को आर्थिक संकटका सामना करना पड़ रहा है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???