Patrika Hindi News

पनामागेट: पाक PM नवाज शरीफ को झटका, कोर्ट ने दिए जांच के आदेश

Updated: IST nawaz
पनामागेट मामले को लेकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को कोर्ट से बड़ा झटका लगा है। सुप्रीम कोर्ट ने नवाज शरीफ और उनके दो बेटों के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं। सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की पीठ इस मामले की सुनवाई कर रही थी। बता दें कि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के अध्यक्ष इमरान खान ने शरीफ के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के मामले को लेकर याचिका डाली थी।

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के सर्वोच्च न्यायालय ने गुरुवार को पनामा पेपर मामले में प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की संलिप्तता की जांच के लिए एक संयुक्त जांच टीम गठित करने का आदेश दिया। न्यायाधीश आसिफ सईद खोसा ने शरीफ और उनके परिवार को लेकर यह फैसला सुनाया। उन्होंने कहा कि फेडरल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी और नेशनल अकाउंटेबिलिटी ब्यूरो मामले की जांच करने में नाकाम रहे हैं। शरीफ को जांच टीम के समक्ष पेश होने और टीम को 60 दिनों के भीतर मामले में अपनी रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया गया है। पांच न्यायाधीशों की सदस्यता वाली पीठ ने शरीफ और उनके परिवार पर कर मामले में पनाह देने वाले देशों में कंपनियां खड़ी करने के आरोपों से जुड़े विभिन्न तर्क सुनने के बाद यह फैसला सुनाया।

इमरान खान की पार्टी पीटीआई दायर की थी याचिका
क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) ने कथित धन शोधन मामले में शरीफ के परिवार के खिलाफ याचिका दायर की है। खान का आरोप है कि शरीफ ने पांच अप्रैल के अपने संबोधन में और पिछले साल 16 मई को नेशनल असेंबली में यह कहकर देश को धोखा दिया कि उन्होंने और उनके परिवार ने 1990 के दशक में लंदन में संपत्ति खरीदने के लिए धनशोधन नहीं किया था।

फैसले से पहले चिंता में थी नवाज की पार्टी
पाक मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, अगले साल पाकिस्तान में होने वाले चुनाव को देखते हुए शरीफ और उनकी पीएमएल-एन पार्टी के लिए यह फैसला बेहद महत्वपूर्ण है। सत्तारूढ़ पीएमएल-एन खेमा न्यायालय के फैसले को लेकर चिंतित था और पार्टी के दिग्गजों ने बुधवार को सर्वोच्च न्यायालय के संभावित फैसले को लेकर चर्चा भी की थी। हालांकि, फैसले से पूर्व प्रधानमंत्री की बेटी मरियम नवाज ने कहा था कि उनके पिता इसे लेकर चिंतित नहीं हैं।

क्या है मामला
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पर यह मामला उनके पूर्व के प्रधानमंत्रित्व काल का है। यह मामला पनामा की कानूनी कंपनी मोजैक फोनसेका से दस्तावेज लीक होने से जुड़ा है। इस दस्तावेज में बताया गया है कि नवाज की उत्तराधिकारी मरियम नवाज सहित उनके बच्चों ने धन शोधन कर लंदन में लाखों डॉलर की संपत्ति बनाई है। सुप्रीम कोर्ट ने मरियम के वित्तीय स्रोत पर सवाल उठाया है। इस मामले में मुकदमा 1990 के दशक में दर्ज हुआ था। शरीफ उस दौरान दो बार प्रधानमंत्री रहे थे।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???