Patrika Hindi News

Photo Icon प्राथमिक स्कूलों में नही है बिजली और शौचालय, कैसे सफल होगा सर्व शिक्षा अभियान

Updated: IST ayodhya
सर्वशिक्षा अभियान के तहत सरकार बच्चों को बेहतर शिक्षा देने के लिए प्रयासरत हैं लेकिन सरकार की तमाम कोशिशों के बाद भी प्रदेश की विभिन्न जनपदों में सरकारी स्कूलों की हालत खस्ता हाल है।

अयोध्या। सर्वशिक्षा अभियान के तहत सरकार बच्चों को बेहतर शिक्षा देने के लिए प्रयासरत हैं लेकिन सरकार की तमाम कोशिशों के बाद भी प्रदेश की विभिन्न जनपदों में सरकारी स्कूलों की हालत खस्ता हाल है। कई जगह पर स्कूल जर्जर अवस्था में है तो कई स्थानों पर स्कूल में बिजली पानी और शौचालय जैसी मूलभूत सुविधाओं का अभाव है। फैजाबाद जिला मुख्यालय में मौजूद अयोध्या के कुछ स्कूलों की हालत भी ऐसी ही है जहां पर छात्रों को मिलने वाली मूलभूत सुविधाओं का अभाव है। कहीं पर प्राथमिक विद्यालय के लिए खुद का निजी भवन नहीं है तो कहीं भवन है तो बिजली और शौचालय जैसी सुविधाएं नहीं है।

ayodhya

1984 से स्थापित है प्राथमिक विद्यालय लेकिन अभी तक खुद का भवन भी नहीं बन पाया

अयोध्या के सोनखर कुंड क्षेत्र स्थित पूर्व माध्यमिक प्राथमिक विद्यालय की स्थापना 1984 में हुई थी लेकिन तीन दशक से अधिक का लंबा समय बीत जाने के बाद भी आज भी यह स्कूल किराए के भवन में चल रहा है। जमीन से दूसरे तल पर स्थित स्कूल के कमरों में छात्र अंधेरे में बैठकर पढ़ाई करने को मजबूर हैं। जिस दिन धूप निकलती है उस दिन तो कमरे में रोशनी होती है लेकिन बरसात और ठंड के दिनों में स्कूल के कमरों में पर्याप्त रोशनी नहीं होती जिसके कारण छात्रों को अंधेरे में पढ़ाई करनी पड़ती है, जिससे उनकी आंखों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। वही ऐसा नहीं है कि इस समस्या के बाबत शिक्षा विभाग के अधिकारियों को जानकारी नहीं है लेकिन जब ज़िम्मेदार ही जिम्मेदारियों को नहीं समझ रहे हैं तो आखिरकार व्यवस्था सुधरे भी तो कैसे।

ayodhya

अगर किसी बच्चे को जाना हो शौचालय तो छुट्टी लेकर जाना पड़ता है

अयोध्या के जानकी घाट क्षेत्र स्थित प्राथमिक विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों को भी काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है यहां पर भी पढ़ने वाले बच्चों को बिजली पानी जैसी मूलभूत सुविधाओं की किल्लत से जूझना पड़ता है। प्राथमिक विद्यालय में बिजली की व्यवस्था नहीं है। ऐसे में गर्मी के दिनों में छात्रों को भारी असुविधा का सामना करना पड़ता है और गर्मी से बच्चे पढ़ते पढ़ते बेहाल हो जाते हैं। वहीं यह भवन भी विद्यालय का निजी भवन नहीं है। यहां भी किराए के मकान में यह स्कूल चल रहा है लेकिन आलम यह है कि मकान मालिक को किराया तक नहीं मिल रहा है और जैसे-तैसे स्कूल चलाया जा रहा है। सोनखर कुंड क्षेत्र में स्थित प्राथमिक विद्यालय में शौचालय की सुविधा उपलब्ध नहीं है जिसके कारण अगर बच्चों को शौच जाना हो तो वह छुट्टी लेकर घर चले जाते हैं क्योंकि विद्यालय में खुद का शौचालय नहीं है। जिले के अन्य प्राथमिक स्कूलों के हालात भी कुछ ऐसे ही हैं जहां कुछ न कुछ समस्याएं हैं।

ayodhya

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???