Patrika Hindi News

> > > > Someone else said that India will become a bird of gold taken hasty decisions

सोने पर शिकंजा...

Updated: IST Gold screws
किसी ने कहा सोने की चिडिय़ा बनेगा भारत तो किसी ने कहा जल्दबाजी में लिया निर्णय-घरों में सोना रखने की सीमा तय होने पर आईं अलग-अलग प्रतिक्रियाएं-ज्वैलर्स बोले, स्थानीय स्तर पर सराफा कारोबार पर ज्यादा असर नहीं पड़ेगा-कालेधन पर लगाम लगाने के लिए बताया बेहतर कदम-500 ग्राम की सीमा को 1 क्रिग्रा. तक करने पर भी जोर

सेंधवा. कालेधन पर लगाम लगाने के मकसद से केंद्र सरकार ने बुधवार को अहम निर्णय लिया। अब हजार पांच सौ के पुराने नोटों के बाद घरों में सोना रखने की सीमा भी तय कर दी गई है। कहा जा रहा था कि कालेधन को सोना खरीदकर भी खपाया जा रहा है। इस निर्णय के बाद अब एक सीमित मात्रा में ही सोना घरों में रखा जा सकता है। निर्णय के आते ही आम लोगों में तमाम तरह की प्रतिक्रियाएं शुरू हो गईं। किसी ने इसे बेहतर कदम बताया, तो किसी ने इस निर्णय पर कई सवाल भी खड़े किए। वहीं सराफा व्यापारियों ने निर्णय का स्वागत तो किया, लेकिन यह भी संकेत दिया कि इससे व्यापारा पर असर पड़ सकता है।

केंद्र सरकार ने घर पर सोना रखने की सीमा तय कर दी है। विवाहित महिलाएं 500 ग्राम तक तो अविवाहित महिलाएं 250 ग्राम तक सोना रख सकती हैं। पुरुषों के लिए यह सीमा 100 ग्राम तक है। निर्णय के बाद महिलाओं की तरफ से अलग-अलग प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। किसी ने सोना रखने की सीमा को कम बताया, तो किसी ने निर्णय में विवाहिता एवं अविवाहिता में भेद एवं उम्र को लेकर प्रश्न भी खड़े किए। जैसे, एक वर्ष की बच्ची को 250 ग्राम सोना रखने की छूट होगी, तो यही नियम पचास वर्ष की अविवाहिता के लिए भी लागू होगा। इस तरह के कई सवाल सामने आने लगे हैं। इसी तरह महिलाएं सोने की खरीदी सिर्फ श्रृंगार के लिए ही नहीं करती, बल्कि भविष्य में किसी संकट के दौरान इसका उपयोग करने के लिए भी करती हैं। कई दफा देखने को मिला भी है कि धन नहीं होने पर लोग सोने या आभूषणों को अपने संकट के समय में उपयोग करते हैं, चाहे वह बीमारी का वक्त हो या आर्थिक संकट आने पर। ऐसे में इस निर्णय को लेकर लोगों के बीच असमंजस की स्थिति बनती जा रही है। कइयों ने इस सीमा को बढ़ाने की वकालत की। तर्क दिया कि आपात स्थिति में सोना काफी महत्व रखता है।

-निर्णय के बाद प्रतिक्रियाएं-

एक किलो हो सीमा

देवझिरी कॉलोनी निवासी जाग्रति यादव ने कहा, घर में सोना रखने की सीमा कम है। विवाहित महिलाओं के लिए 500 ग्राम सोना रखने की सीमा बढऩी चाहिए। महिलाएं सोने की खरीदी सिर्फ श्रृंगार के लिए नहीं करती, बल्कि संकट के समय में भी यह काम आता है। विवाहित महिलाओं के लिए घर में सोना रखने की सीमा 1 किग्रा. तक होनी चाहिए।

जल्दबाजी में लिया निर्णय

निवाली रोड निवासी एड. विमला शर्मा ने कहा, घरों में सोना रखने का जो निर्णय लिया गया है। इसमें विवाहिता एवं अविवाहिता दोनों के लिए सोना रखने की सीमा समान रखना चाहिए। यह निर्णय जल्दबाजी में लिया गया है। जो कि सही नहीं है। सभी को बराबर का अधिकार देना चाहिए। अविवाहिता एवं विवाहिता के अंतर को भी हटाना चाहिए।

सोने की चिडिय़ा बनेगा भारत

वैद्य कॉलोनी निवासी समाज सेविका निशा शर्मा ने कहा, कालाधन समाप्त करने के लिए सरकार का यह निर्णय स्वागत योग्य है। विवाहिता महिलाओं के लिए 500 ग्राम सोना रखने की सीमा पर्याप्त है। ज्यादा सोना रखना जोखिम का काम है। पीएम नरेंद्र मोदी भारत को पुन: सोने की चिडिय़ा बनाना चाहते हैं। इसमें सभी को बढ़चढ़ कर सहयोग करना चाहिए।

स्वागत योग्य है यह निर्णय

अग्रवाल कॉलोनी निवासी बीजेपी प्रवक्ता सुनील अग्रवाल ने कहा, कालेधन एवं भ्रष्टाचार को मिटाने के लिए यह निर्णय लिया गया है। क्योंकि अधिकतर कालाधन बैंक में न रखते हुए जमीन एवं सोने की धातु पर खर्च किया जाता है। इस निर्णय से बड़ी मात्रा में कालाधन बाहर आने की संभावना है। सरकार ने हर पहलू को मद्देनजर रखकर यह निर्णय लिया है और घरों में सोना रखने की सीमा तय की है। निर्णय अच्छा है। लोगों को साथ देना चाहिए।

कारोबार पर ज्यादा असर नहीं

सराफा कारोबारी स्वप्निल सोनी ने कहा, कालेधन पर लगाम लगाने के लिए निर्णय बेहतर कदम है। भविष्य में इसके अच्छे परिणाम आएंगे। कारोबार पर इस निर्णय से पडऩे वाले असर को लेकर उन्होंने कहा कि ज्वैलरी मार्केट में इसका ज्यादा असर नहीं पड़ेगा। एक परिवार में कई सदस्य होते हैं। कुछ क्षेत्रों में टैक्स में छूट होने से खरीदी ज्यादा प्रभावित नहीं होगी।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???