Patrika Hindi News
UP Scam

बर्ड वॉचिंग फेस्टिवल की तैयारी पूरी!

Updated: IST Bird Festival
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पहल पर बीते वर्ष 04 दिसम्बर को पूरे उत्तर प्रदेश में बर्ड वॉचिंग फेस्टिवल के कार्यक्रम का आयोजन किया गया था।

बहराइच.कतर्नियाघाट वन्य जीव विहार के जंगलों में बसेरा करने वाले तमाम प्रवासी व अप्रवासी पक्षियों की प्रजाति के बारे में जिले के स्कूली छात्र-छात्राओं को कतर्नियां जंगल की आबो हवा में सैर करने वाले तमाम परिंदों के बारे में बेहतर तरीके से पंक्षियों की लाइफ स्टाइल और उनके रहन सहन से जुड़ी तमाम तरह की जानकारियों से रूबरू कराये जाने के उद्देश्य से आगमी 02 दिसम्बर को बर्ड वॉचिंग फेस्टिवल का कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।

सर्वविदित है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पहल पर बीते वर्ष 04 दिसम्बर को पूरे उत्तर प्रदेश में बर्ड वॉचिंग फेस्टिवल के कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। आगामी 2 दिसम्बर को मनाये जाने वाले बर्ड फेस्टिवल के बारे में जानकारी देते हुए प्रभागीय वनाधिकारी कतर्नियाघाट जीपी सिंह ने बताया कि बर्ड वॉचिंग फेस्टिवल के बहाने कतर्नियाघाट वन्य जीव विहार के जंगलों में बसेरा करने वाले पक्षियों का परिचय स्कूली छात्र-छात्राओं से कराये जाने के लिए सभी तैयारियाॅ पूर्ण कर ली गयीं हैं। श्री सिंह ने बताया कि कतर्नियाघाट वन्य जीव प्रभाग में आयोजित हो रहे कार्यक्रम में विश्व प्रकृति निधि (डब्लू.डब्लू.एफ.), कतर्नियाघाट वेलफेयर सोसायटी, कतर्नियाघाट फ्रेंड्स क्लब, एसओएस टाइगर जैसी स्वयंसेवी संस्थाओं का सहयोग प्राप्त किया जायेगा।

प्रभागीय वनाधिकारी श्री सिंह ने बताया कि बर्ड वाचिंग फेस्टिवल के लिए सभी सात रेन्ज़ों में स्थल का चयन कर लिया गया है जहाॅ पर बर्ड वाचिंग विशेषज्ञ के साथ छात्र-छात्राओं को पक्षियों को दिखाने तथा उनकी विशेषताओं के बारे में अन्य महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की जायेगी। उन्होंने बताया कि बर्ड वाचिंग के लिए चिन्हित किये गये स्थानों पर पक्षियों को निहारने के लिए वाइनाकूलर व स्पाॅटिंग स्कोप के साथ-साथ पक्षियों की पहचान के लिए नामचीन लेखकों रिचर्ड ग्रिमेट एण्ड टिमइंस्किप तथा सलीम अली द्वारा लिखी पुस्तकें भी उपलब्ध रहेंगी ताकि छात्र-छात्राओं को मौके पर देखे गये पक्षियों के सम्बन्ध में प्रमाणिक जानकारी उपलब्ध करायी जा सके।

डीएफओ कतर्नियाघाट ने बताया कि कतर्नियाघाट रेन्ज अन्तर्गत घड़ियाल सेन्टर से पक्के मचान तक, निशानगाढ़ा रेन्ज में रमपुरवा वन विश्राम भवन परिसर तथा उसके आस-पास के क्षेत्र, सुजौली रेन्ज में त्रिमुहानी झील, मुर्तिहा रेन्ज में सेमरी भगहर, धर्मापुर रेन्ज में धर्मापुर भगहर, ककरहा रेन्ज में नेचर ट्रेल तथा मोतीपुर रेन्ज अन्तर्गत खपरा चेक पोस्ट से ईकोटूरिज़्म वन मार्ग पर बर्ड वाचिंग की व्यवस्था की गयी है।

डीएफओ श्री सिंह ने बताया कि बर्ड वाचिंग फेस्टिवल में द तराई एजुकेशनल एकेडमी आम्बा, शारदा सहायक परियोजना इण्टर कालेज गिरिजापुरी, पूर्व माध्यमिक विद्यालय फकीरपुरी, जूनियर हाईस्कूल कठौतिया, पण्डित सच्चिदानन्द इण्टर कालेज सेमरीघटही, जूनियर हाईस्कूल सेमरीमलमला, रा.क.पूर्व मा.विद्यालय धर्मापुर, सेंट जाॅन पब्लिक स्कूल ककरहा तथा सर्वोदय इण्टर कालेज मिहींपुरवा के छात्र-छात्राओं द्वारा बर्ड वाचिंग के लिए प्रतिभाग किया जायेगा। प्रभागीय वनाधिकारी ने बताया कि अब तक घड़ियाल, मगरमच्छ, गैंगटिक डालफिन, बाघ और हाथी जैसे वन्य जीवों, प्राकृतिक सुन्दरता तथा जैव विविधता के लिए मशहूर कतर्नियाघाट वन्य जीव विहार को विभिन्न प्रवासी तथा अप्रवासी पक्षियों का आश्रय स्थल होने के रूप में भी पहचान मिलेगी।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???