Patrika Hindi News
UP Election 2017

यहां की छात्राओं को रोज झेलना पड़ रहा है छेड़खानी का दंश!

Updated: IST Bahraich
महिलाओं की सुरक्षा के नाम पर संचालित 1090 नाम की महिला हेल्प लाईन योजना भी जिले में स्कूली छात्राओं के जख्मों पर मरहम लगाने में नाकाम साबित हो रही है।

बहराइच।प्रदेश सरकार महिला अपराध के मामले को लेकर कितनी ही संजीदा क्यों न हो लेकिन महिला अपराध के मामले में इजाफे का ग्राफ थमने के बजाय अपना पैर पसारता ही जा रहा है। यही नहीं महिलाओं की सुरक्षा के नाम पर संचालित 1090 नाम की महिला हेल्प लाईन योजना भी जिले में स्कूली छात्राओं के जख्मों पर मरहम लगाने में नाकाम साबित हो रही है। दूर दराज से शिक्षा ग्रहण करने आने वाली तमाम छात्राओं को सिस्टम की लापरवाही के चलते आये दी मनबढ़ मनचलों की छेड़खानी का सदमा बर्दाश्त करना पड़ रहा है।

उत्तर प्रदेश के स्कूल कालेज में पढ़ने वाली छात्राएं कितनी महफूज हैं उसकी ताज़ी हकीकत को बयां करने के लिए ये घटना तमाम दावों की पोल खोलने के लिए काफी हैं। उत्तर प्रदेश में महिलाओं के साथ छेड़खानी जैसी घटनाओं को अंजाम देने वाले अराजक प्रवृति के लोगों के हौसले किस कदर परवान चढ़े हुए हैं जिनके मंसूबों पर न तो पुलिस का कोई खौफ काम कर रहा है और न ही इनकी करतूत पर किसी कानून का डर लगाम लगा पा रहा है। आलम ये है की जिले के कालेज में स्कूली छात्राओं को आये दिन छेड़खानी जैसी घटनाओं का सामना करना पड़ रहा है। यूं कहें तो कालेज के अंदर जबरन आने वाले बाहरी गुंडों के बर्ताव से न सिर्फ कालेज की छात्राएं भयभीत हैं बल्कि स्कूल प्रबंधन के लोग भी बुरी तरह सहमे हुए हैं।

ये मामला है डॉ. राम मनोहर लोहिया अवध विश्व विद्यालय से संबद्ध बहराइच जिले में स्थित ठा. हुकुम सिंह स्नातकोत्तर महाविद्यालय का जहां पर 8 हजार की तादात में पढ़ने वाले छात्र छात्राओं में करीब 3 हजार की संख्या में छात्राएं रोजाना शिक्षा ग्रहण करने दूर दराज के इलाकों से आती हैं। यहां पर छात्र संघ चुनाव के नाम पर तमाम अराजक किस्म के युवक स्कूल में दाखिल होकर न सिर्फ शिक्षण कार्य में बाधा डालते हैं बल्कि स्कूली छत्राओं के साथ अभद्र व्यवहार करने से साथ ही छेड़खानी की घटना को अंजाम देते हैं। जब स्कूल प्रबन्धन से जुड़े लोगों द्वारा अराजक तत्वों पर शिकंजा कसने का दबाव बनाया जाता है तो उन्हें भी जान से मारने की धमकी दी जाती है। इसके बारे में कई बार स्कूल प्रबन्धन के लोगों द्वारा पुलिस के अफसरों से शिकायत भी दर्ज करायी जा चुकी है। उसके बावजूद अभी तक स्कूल में फैली छेड़खानी जैसी अराजकता के माहौल पर शिकंजा नहीं कसा जा पा रहा। यही नहीं कालेज प्रबंधन से जुड़े डिग्री कालेज के प्रिंसिपल डॉ एसपी सिंह का कहना है की पीड़ित छात्राओं ने भी कई बार महिला हेल्पलाईन 1090 पर भी इस बात की शिकायत दर्ज करायी है लेकिन आज तक इस संगीन मामले का कोई पुख्ता हल नहीं निकल सका। आलम ये है की कालेज में आने वाले बाहरी अराजक गुंडों के आतंक से न सिर्फ स्कूली छात्राएं परेशान हैं बल्कि कालेज प्रबंधन के लोग भी बुरी तरह आहत हैं। अब देखना है की जिम्मेदार अफसर इस संगीन मामले को हल करने का क्या रास्ता अख्तियार करते हैं।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???