Patrika Hindi News

जंगलों में बढ़ाई गई सुरक्षा

Updated: IST balaghat
नक्सलियों का पीएलजीए सप्ताह आज से, तीनों राज्यों के आपसी समन्वय से चल रहा सर्चिंग अभियान

बालाघाट. नक्सलियों के मंसूबों को नाकाम करने के लिए तीनों ही राज्यों की पुलिस आपसी समन्वय से सर्चिंग अभियान चला रही है। खासतौर पर यह सर्चिंग अभियान तीनों ही राज्यों (मप्र, छग, महाराष्ट्र) के सीमावर्ती क्षेत्रों में चल रहा है। दरअसल, नक्सलियों द्वारा दो दिसम्बर से पीएलजीए सप्ताह मनाने का आह्वान किया गया है। यह सप्ताह 8 दिसम्बर तक चलेगा।जानकारी के अनुसार 2 से 8 दिसम्बर तक पीएलजीए सप्ताह मनाए जाने के लिए नक्सलियों ने जंगल से लेकर सड़कों में पर्चे भी फेंके थे। पर्चे मिलने के बाद पुलिस भी सतर्क हो गई थी। सर्चिंग अभियान भी तेज कर दिया था। लेकिन पुलिस नक्सलियों के ठिकानों तक नहीं पहुंच पाई है। इधर, शुक्रवार से शुरू हो रहे पीएलजीए सप्ताह को लेकर पुलिस काफी सतर्क हो गई है।

25-30 की संख्या में नक्सली
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जिले में मौजूदा समय में 25-30 की संख्या में नक्सली मौजूद हैं। ये सभी नक्सली अलग-अलग गुटों में बंटे हुए है। इतना ही नहीं नक्सलियों ने अलग-अलग क्षेत्र में कमान संभाली हुई है। जो ग्रामीणों से लगातार संपर्क कर रहे हैं। साथ ही उन्हें दलम में शामिल होने के लिए दबाव भी बना रहे हैं। हालांकि, पहले की अपेक्षा ग्रामीणों में थोड़ी जागरुकता आने की वजह से वे अब नक्सलियों का कम ही साथ दे रहे हैं।

सीमावर्ती क्षेत्रों में हाई अलर्ट
नक्सलियों के पीएलजीए सप्ताह को लेकर जिले के सीमावर्ती क्षेत्रों में जहां सर्चिंग तेज कर दी गई है। वहीं जिले के पुलिस अधीक्षक अमित सांघी ने छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र राज्य की नक्सल उन्मूलन में लगे पुलिस अधिकारियों से सर्चिंग को लेकर चर्चा की है। ताकि सर्चिंग के दौरान उन्हें दोनों ही राज्यों से अच्छा सपोर्ट मिल सकें। दरअसल, नक्सली छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र राज्य में किसी भी घटना को अंजाम देने के बाद वे जंगलों के रास्ते जिले में प्रवेश करते हैं। इसी वजह से पुलिस अधीक्षक ने सीमावर्ती क्षेत्र के जंगलों में आपसी समन्वय से सर्चिंग बढ़ाई है। ताकि और नक्सली जिले में पनाह न ले सकें।

आंध्रप्रदेश से पहुंचे नक्सली
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जिले में एक बार फिर आंधप्रदेश सहित अन्य राज्यों से पहुंचे नक्सलियों ने कमान संभाल ली है। ये नक्सली जिले में अपनी सक्रियता और पैठ बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं। इसके पूर्व भी बाहर के नक्सलियों ने अप्रैल से लेकर अगस्त माह तक जिले में कमान संभालकर बड़ी घटनाओं को अंजाम दिया था। उसके बाद से पुलिस ने जंगलों में सर्चिंग तेज कर दी थी। तत्कालीन एसपी गौरव तिवारी ने स्वयं इस सर्चिंग अभियान की कमान संभाली हुई थी। इसके बाद बारिश होने के कारण नक्सली पूरी तरह से सुस्त हो गए थे। लेकिन हाल ही में एक युवक की मुखबिरी के शक में हत्या कर अपने मंसूबों को स्पष्ट कर दिया।

इनका कहना है
जिले में सर्चिंग तेज कर दी है। छग और महाराष्ट्र राज्य के अधिकारियों से सुरक्षा व्यवस्था को लेकर चर्चा की गई है। सीमावर्ती क्षेत्रों में आपसी समन्वय से सर्चिंग की जा रही है। नक्सलियों को उनके मंसूबों पर कामयाब नहीं होने देंगे।
अमित सांघी, एसपी, बालाघाट

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???