Patrika Hindi News

Photo Icon
जिले में नहीं पाया गया सिलोकोसिस का मरीज

Updated: IST balaghat
300 से अधिक कर्मचारियों का किया गया स्वास्थ्य परीक्षणखनिज स्वास्थ्य जांच व सिलिकोसिस सर्वेक्षण के शिविर का समापन

बालाघाट. क्रेसर और मैगनीज खदानों में कार्यरत श्रमिको को सिलिकोसिक जैसी लाइलाज बीमारी का खतरा होने की संभावना के मद्देनजर जिला अस्पताल के ट्रामा सेंटर में 13 फरवरी से स्वास्थ्य परीक्षण शिविर लगाया गया था। जिसका शुक्रवार को विधित समापन किया गया। इस संबंध में उप संचालक खान सुरक्षा महानिदेशालय पश्चिमी अंचल नागपुर के एस अंसारी ने बताया कि शिविर के दौरान निजी खदानों में कार्यरत करीब 300 से अधिक माइन कर्मचारियों के स्वास्थ्य का परीक्षण किया गया। इनमें एक भी मरीज सिलिकोसिस बीमारी का संदेही नहीं पाया गया जो खुशी की बात भी है।
इन्होंने बताया कि सिलोकोसिस बीमारी के मद्देनजर सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आदेश जारी किए गए हैं। जिसके परिपालन में जिले में माइन कर्मचारियों में बीमारी का सर्वे व उनका स्वास्थ्य परीक्षण करने नागपुर से उनका दल बालाघाट पहुंचा था। जिन्होंने जिला प्रशासन के सहयोग से खदानों के श्रमिक एवं कर्मचारियों का खनिज स्वास्थ्य जांच व सिलिकोसिस सर्वेक्षण किया। पूरे शिविर में जिला प्रशासन के अलावा, जिला अस्पताल से सीएमएचओ डॉ. केके खोंसला, सिविल सर्जन डॉ. एके जैन, रेडक्रास कार्यकारिणी सदस्य ज्ञानचंद चोपड़ा, विशाल बिसेन, डॉ. अंकित असाटी, पीकेजे त्रिवेदी, मोहम्मद फारुख शेख इत्यादि का सराहनीय योगदान प्राप्त हुआ।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???