Patrika Hindi News
UP Scam

Video Icon बड़ा खुलासा : आय से अधिक संपत्ति रखने पर पूर्व मंत्री समेत 9 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज 

Updated: IST pOLICE
यूपी विजिलेंस ने पूर्व मंत्री, समेत कुल नौ लोगों के खिलाफ बांदा के अतर्रा थाने में मामला दर्ज कराया है।

बांदा।एनआरएचएम घोटाला आरोपी और यूपी के पूर्व कैबिनेट मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा पर आय से अधिक सम्पति जुटाने के मामले में दो FIR दर्ज की गयी हैं। यूपी विजिलेंस ने पूर्व मंत्री, उनकी पत्नी शिवकन्या कुशवाहा समेत कुल नौ लोगों के खिलाफ बांदा के अतर्रा थाने में मामला दर्ज कराया है। पूर्व मंत्री पर आरोप है कि उन्होंने अपने पद का दुरूपयोग कर गलत तरीकों से सम्पति बनाई और इसका फायदा अपने रिश्तेदारों तक पहुंचाया। इसके अलावा पूर्व मंत्री पर अपना असली नाम छिपाकर दो जगह से वोटर कार्ड बनवाने का मामला भी पत्नी समेत दर्ज किया गया है। वहीं विजिलेंस की जांच रिपोर्ट के आधार पर बांदा पुलिस ने दोनों मामले दर्ज कर लिए हैं।

देखें वीडियो-

उत्तर प्रदेश सतर्कता अधिष्ठान ने आय से अधिक संपत्ति के मामले में पूर्व मंत्री बाबूसिंह कुशवाहा के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है । वोटर लिस्ट में दो जगह नाम होने पर भी पत्नी समेत रिपोर्ट दर्ज की गई है। विजिलेंस निरीक्षक ने अतर्रा थाने में दोनों मामलों में तहरीर दी थी । विजिलेंस इंस्पेक्टर रामनिवास सिंह ने अतर्रा थाने में दिसंबर 2016 की जांच रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा है कि पूर्व मंत्री के खिलाफ 2012 से जांच चल रही थी जो बीते साल दिसंबर में पूरी हुई । जांच में पाया गया कि बाबू सिंह कुशवाहा का असल नाम रामचरन कुशवाहा है, जो बबेरू के पखरौली गांव के रहने वाले हैं। बाबू सिंह ने अपने सभी वैध स्रोतों से 2474926 रुपये आय अर्जित की। जांच में पाया गया कि इस अवधि में भागवत एजुकेशनल ट्रस्ट और तथागत स्कूल के निर्माण में 266733142 रुपये खर्च किया गया ।

babu

बांदा के थाना अतर्रा में बाबूसिंह कुशवाहा और 9 लोगों के खिलाफ पद का दुरूपयोग कर अवैध स्रोत से धनराशि सृजित करने के सम्बन्ध में अभियोग पंजीकृत किया गया है। एक 419 IPC व जनप्रतिनिधित्व अधिनियम 1950 की धारा 31 के तहत बाबू सिंह कुशवाहा और उनकी पत्नी शिवकन्या कुशवाहा के विरुद्ध पंजीकृत किया गया है। ये अभियोग उत्तर प्रदेश सतर्कता अधिष्ठान झांसी के निरीक्षक रामनिवास सिंह की ओर से दर्ज कराया गया है। बाबू सिंह की पत्नी शिवकन्या कुशवाहा, शिवशरण कुशवाहा, रामप्रसाद जायसवाल, लक्ष्मी कुशवाहा, नवीन गुप्ता, विजय बहादुर, नत्थूराम, मथुरा प्रसाद को ट्रस्टी से लेकर सदस्य नामित किया ।

जांच में पाया गया कि मंत्री रहते हुए पद का दुरुपयोग करके रिश्तेदारों को फायदा पहुंचाने का काम किया गया है, जिसमें 264258216 रुपये भ्रष्टाचार के जरिए कमाए गए। इस बाबत जांच में बाबू सिंह कुशवाहा की ओर से संतोष जनक स्पष्टीकरण नहीं दिया गया। एेसे में बाबूसिंह कुशवाहा और उनके उपरोक्त रिश्तेदारों और करीबियों पर विजिलेंस ने रिपोर्ट दर्ज कराया है। इसके साथ ही दूसरे मामले में वोटर लिस्ट में दो जगह नाम होने पर बाबू सिंह कुशवाहा और उनकी पत्नी शिवकन्या कुशवाहा पर रिपोर्ट दर्ज कराई गयी है।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???