Patrika Hindi News

सड़क हादसों में मरने वाले बच्चों की संख्या चिंताजनक

Updated: IST bangalore news
पीडियाट्रिक सिमुलेशन ट्रेनिंग एंड रिसर्च सोसाइटी ऑफ इंडिया ने सोमवार को राष्ट्रीय बाल चिकित्सा ट्रॉमा सिमुलेशन कार्यशाला का आयोजन किया

बेंगलूरु. पीडियाट्रिक सिमुलेशन ट्रेनिंग एंड रिसर्च सोसाइटी ऑफ इंडिया ने सोमवार को राष्ट्रीय बाल चिकित्सा ट्रॉमा सिमुलेशन कार्यशाला का आयोजन किया। इस दौरान एक मौक ड्रिल कार्यक्रम के माध्यम से सड़क सहित अन्य हादसों के शिकार बच्चों के उपचार से जुड़े पहलुओं और तकनीक पर विशेषज्ञों को प्रशिक्षित किया गया।

डॉ. सुजाता त्यागराजन ने कहा कि सड़क हादसों में मरने वाले बच्चों की संख्या चिंताजनक रूप से बढ़ी है। ढांचागत उपचार प्रणाली के अभाव में मृतकों और नि:शक्तों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। हादसे के शिकार बच्चों का उपचार व्यस्कों के उपचार से अलग होता है। जरा सी गलती या निर्णय लेने में देरी बाल मरीजों के लिए खतरनाक हो सकता है। ट्रॉमा सेवाओं से जुड़े ज्यादा से ज्यादा चिकित्सकों और नर्सों को प्रशिक्षित करने की जरूरत है।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???