Patrika Hindi News

तीसरी आंख खरीदने को बीयू के पास नहीं फंड

Updated: IST bangalore
बेंगलूरु विश्वविद्यालय (बीयू) के फंड की कमी का रोना जारी। कुछ सप्ताह पहले बीयू 52वें दीक्षांत समारोह में फंड की

बेंगलूरु।बेंगलूरु विश्वविद्यालय (बीयू) के फंड की कमी का रोना जारी। कुछ सप्ताह पहले बीयू 52वें दीक्षांत समारोह में फंड की कमी के चलते सभी स्वर्ण पदक विजेताओं को पदक नहीं देगा सका। अब बीयू ज्ञान भारती परिसर को सुरक्षित बनाने के लिए सीसीटीवी कैमरों की संख्या बढ़ाने पर भी टालमटोल कर रहा है। बीयू के अधिकारियों का कहना है कि कैमरों के लिए उनके पास फंड नहीं है। पुलिस ने गत वर्ष जून में कैमरों की संख्या बढ़ाने का प्रस्ताव दिया था।

बीयू के पूर्व कुलपति प्रो. बी. तिम्मेगौड़ा ने बताया, पुलिस चाहती है कि बीयू परिसर में और सात कैमरे लगाए जाएं। पुलिस ने ऐसे सात स्थानों की पहचान की है, जहां कैमरे लगाने से सुरक्षा बढ़ेगी। बीयू परिसर की बेहतर निगरानी हो सकेगी। बीयू परिसर में पहले से ही 8 कैमरे लगे हैं। इस पर करीब 10 लाख रुपए का खर्च हुआ था। पुलिस ने जिन सात कैमरों की सिफारिश की है वे हाई रेजॉल्यूशन के हैं और कीमती भी।

बीयू प्रशासन पुलिस की ओर से प्रस्ताव मिलने के करीब सात महीने बाद भी कैमरे लगाने पर निर्णय नहीं ले सका है। बीयू के सूत्रों की मानें तो बीयू प्रशासन कैमरे लगाने को लेकर असमंजस में है। वर्ष 2012 में बीयू परिसर में नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटी की एक छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना के बाद बीयू ने 8 सीसीटीवी कैमरे लगाए थे। नए कैमरे न लगाने को लेकर बीयू प्रबंधन फंड का हवाला दे रहा है।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???