Patrika Hindi News

> > > > Cauvery water dispute: Siddaramaiah met Uma

कावेरी जल विवाद: उमा से मिले सिद्धू

Updated: IST bangalore news
सुप्रीम कोर्ट के तमिलनाडु को कावेरी नदी से 42 हजार क्यूसेक और पानी देने के आदेश पर चर्चा के लिए राज्य विधानमंडल का एक दिवसीय आपात अधिवेशन शुक्रवार को होगा।

बेंगलूरु. सुप्रीम कोर्ट के तमिलनाडु को कावेरी नदी से 42 हजार क्यूसेक और पानी देने के आदेश पर चर्चा के लिए राज्य विधानमंडल का एक दिवसीय आपात अधिवेशन शुक्रवार को होगा। शीर्ष अदालत के आदेश का ेिक्रयान्वयन तीन दिन तक टालने के साथ ही बुधवार को राज्य मंत्रिमंडल ने विधानमंडल का आपात अधिवेशन बुलाने का निर्णय किया था। इस बीच, गुरुवार दोपहर बाद मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या अचानक दिल्ली गए और इस मसले पर केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती से मुलाकात कर राज्य का पक्ष रखा। बुधवार को सर्वदलीय बैठक का बहिष्कार करने वाली भाजपा ने भी विधान मंडल के अधिवेशन में भाग लेेने का फैसला किया है।

राज्यपाल को दी फैसले की जानकारी

दिल्ली रवाना होने से पहले सिद्धरामय्या ने राजभवन जाकर राज्यपाल वजूभाई वाळा से मुलाकात की और उन्हें कोर्ट के आदेश के बाद की स्थिति और मंत्रिमंडल के पानी छोडऩे के आदेश का अनुपालन टालने के फैसले की जानकार दी। उन्होंने विधानमंडल का आपात अधिवेशन आहूत करने के लिए अधिसूचना जारी करने की भी अपील की।

कृष्णा से विचार-विमर्श

सिद्धू ने दिल्ली जाने से पहले पूर्व विदेश मंत्री एस एम कृष्णा से भी उनके आवास पर मुलाकात की और हालात पर चर्चा की। कृष्णा ने उनको पूर्ण समर्थन का भरोसा दिलाया। कृष्णा ने कहा कि सर्वदलीय बैठक तथा विशेष सत्र बुलाने के बारे में सरकार द्वारा उठाए गए कदम कानून सम्मत हैं। अब हम पानी छोडऩे की स्थिति में नहीं हैं और मैं इस मसले पर सरकार को पूर्ण समर्थन देता हूं। कृष्णा नेभी सभी दलों से सरकार का साथ देने की भी अपील की। कृष्णा ने भी मुख्यमंत्री रहते हुए वर्ष 2002 में कोर्ट के आदेश पर पानी छोडऩे से मना कर दिया था।

देवेगौड़ा का भाजपा नेताओं को फोन

इस मसले पर सरकार के फैसले का समर्थन कर रहे पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा ने गुरुवार को प्रदेश भाजपा के प्रमुख नेताओं को फोन किया और उनसे सरकार का एकजुटता से साथ देने की अपील की। जद ध के राष्ट्रीय अध्यक्ष देवेगौड़ा ने प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बी एस येड्डियूरप्पा, विधानमंडल के दोनों सदनों मेें विपक्ष के नेता जगदीश शेट्टर व के एस ईश्वरप्पा से फोन पर बात की। इस बीच भाजपा ने विधानमंडल अधिवेशन में भाग लेने का निर्णय किया है। बताया जाता है बेंगलूरु लौटने से पहले गुरुवार रात मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से भी मुलाकात कर उन्हें कावेरी मसले पर सरकार की स्थिति से अवगत कराएंगे।

गौरतलब है कि मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने राज्य को 21 से 27 सितम्बर तक रोजाना 6 हजार क्यूसेक पानी तमिलनाडु को देने के आदेश दिए थे जबकि एक दिन पहले ही कावेरी निगरानी समिति ने 10 दिन तक 3 हजार क्यूसेक पानी देने के लिए कहा था। बुधवार को सर्वदलीय बैठक के बाद राज्य मंत्रिमंडल ने कोर्ट के आदेश का अनुपालन तीन दिन तक टालने और विधामंडल अधिवेशन बुलाने का निर्णय किया था। अधिवेशन में इस मसले पर चर्चा के बाद पानी छोडऩे के बारे में सर्वसम्मति से प्रस्ताव भी पारित किया जा सकता है।

बोर्ड गठन के आदेश पर आपत्ति करे केंद्र

उमा से मुलाकात के बाद सिद्धरामय्या ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि कर्नाटक पहले ही कोर्ट के आदेश पर 1.68 लाख क्यूसेक पानी तमिलनाडु को दे चुका है और राज्य के लिए कोर्ट के ताजा आदेश के मुताबिक 42 हजार क्यूसेक और पानी देना संभव नहीं है। राज्य के पास पेयजल जरुरतों को पूरा करनेे के लिए भी पानी नहीं है। उन्होंने कहा कि तमिलनाडु के मेट्टूर बांध में 57 टीएमसी पानी का भंडार है जबकि राज्य के कावेरी बांधों में अब 26 टीएमसी पानी भी नहीं है। सिद्धरामय्या ने उमा को बताया कि बेंगलूरु,मैसूरु और अन्य शहरों को पेयजल आपूर्ति के लिए 23 टीएमसी पानी की आवश्यकता है। साथ ही राज्य में अब बारिश होने की संभावना भी नहीं है।

सिद्धरामय्या ने बताया कि उन्होंने उमा से कहा कि कोर्ट का कावेरी जल प्रबंधन बोर्ड के गठन का आदेश देना भी अवांछित है क्योंकि दोनों में से किसी राज्य ने इसकी मांग नहीं की है और पंचाट के अंतिम आदेश के खिलाफ याचिका अभी लंबित है। सिद्धू ने उमा से आग्रह किया वे 27 सितम्बर को होने वाली सुनवाई के दौरान महान्यायवादी को इस आदेश पर आपत्ति दर्ज करने का निर्देश दें। गौरतलब है कि बुधवार को प्रदेश भाजपा के प्रतिनिधिमंडल ने भी इस मसले पर उमा से मुलाकात की थी।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे