Patrika Hindi News

जीवात्माओं को अपने समान समझें

Updated: IST bangalore
श्रमण सूर्य उप प्रवर्तक पंकज मुनि ने कहा कि हमें सभी जीवात्माओं को अपने समान समझना चाहिए। जब हम सभी

बेंगलूरु।श्रमण सूर्य उप प्रवर्तक पंकज मुनि ने कहा कि हमें सभी जीवात्माओं को अपने समान समझना चाहिए। जब हम सभी प्राणियों को अपनी आत्मा के समान समझेंगे तो किसी को भी दुख नहीं देंगे।वे बुधवार को श्रीरामपुरम से विहार कर राजाजीनगर स्थानक में मंगल पदार्पण के बाद धर्मसभा को संबोधित कर रहे थे। मुनि ने कहा कि हम द्रव्य हिंसा से तो बचने की कोशिश करते हैं पर हमें भाव हिंसा से बचने का प्रयास भी करना चाहिए।

मन में किसी को मारने का, दुख देने का भाव आता है तभी भाव हिंसा आरंभ हो जाती है। वरुण मुनि ने कहा कि मन ही बंधन का कारण है और मन ही मुक्ति का कारण है। मन विचार की प्रक्रिया है। मन कोई यंत्र नहीं है। मन एक प्रवाह है। इस अवसर पर संघ अध्यक्ष महावीर चंद धोका, मंत्री जंबु दुग्गड़, सह मंत्री नेमीचंद दलाल आदि उपस्थित थे। गुरुवार को प्रवचन समय सुबह 9.15 बजे रहेगा।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???