Patrika Hindi News
UP Election 2017

Video Icon "गाँधी की जगह मोदी का फोटो आना गोडसे की परम्परा को आगे बढ़ाने जैसा"

Updated: IST Punia News
बाराबंकी- काँग्रेस के राज्यसभा सांसद और राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉक्टर पी. एल.पुनिया ने कहा "गाँधी की जगह मोदी का फोटो आना गोडसे की परम्परा को आगे बढ़ाने जैसा"

बाराबंकी. खादी कमिशन के सालाना कैलेण्डर में चरखे के साथ गांधी की जगह प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर आते ही राजनीति गर्मा गयी है। काँग्रेस के राज्यसभा सांसद और राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉक्टर पी. एल.पुनिया ने इसके लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर सीधा हमला बोलते हुए कहा कि मोदी गोडसे की परम्परा को आगे बढ़ा रहे हैं। हज सब्सिडी ख़त्म करने के विचार पर पुनिया ने कहा कि सब्सिडी से गरीब मुसलमान भी हज पर चले जाते थे, मगर यह करके मोदी ने दिखा दिया कि उन्हें गरीबो की परवाह ही नहीं है। जवानों के हो रहे वीडियो वायरल पर पुनिया ने कहा कि छोटी-छोटी बात पर ट्वीट करने वाले मोदी जवानों की परेशानी पर ट्वीट क्यों नहीं कर रहे-

गाँधी की जगह मोदी का फोटो आना गोडसे की परम्परा को आगे बढ़ाने जैसा

खादी कमीशन के सालाना कैलेण्डर में गांधी की जगह नरेन्द्र मोदी की फोटो आने पर काँग्रेस भड़क गयी है। काँग्रेस से राज्यसभा सांसद पी. एल.पुनिया ने कहा कि नरेन्द्र मोदी गोडसे और आरएसएस की परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं। इनको गांधी और महान स्वतंत्रता सेनानियों से कोई मतलब नहीं है।

खादी कमीशन एक प्रतिष्ठित संस्थान है। भारत सरकार का खादी को बढ़ावा देने के लिए यह कमीशन बनाया गया है। खादी आश्रम खादी भण्डार यह गांधी जी द्वारा स्वयं स्थापित किया गया था। आज़ादी की लड़ाई में चरखे को आधार बना कर खादी को आधार बना कर अंग्रेजों को यहाँ से भगाया गया था। अब खादी कमीशन के सालाना कलैंडर में गांधी जी को हटाकर मोदी जी ने अपना फोटो लगाया है। इससे ज्यादा शर्मनाक बात और नहीं हो सकती है और यह तो पूरी तरह से साबित करता है कि आरएसएस की परंपरा गोडसे की परंपरा को नरेंद्र मोदी जी आगे बढ़ा रहे है और गांधी जी और देश के महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी इनके लिए कोई महत्व नहीं रखते हैं।

"हज सब्सिडी ख़त्म करने से तय हो गया कि मोदी को गरीबों की परवाह नहीं"

मुसलमानों की हज सब्सिडी ख़त्म करने के केंद्र सरकार के विचार पर पुनिया ने कहा कि हज सब्सिडी मिलने से गरीब मुसलमान जो हज करना चाहते थे वह चले जाते थे, मगर मोदी सरकार के इस फैसले से यह बात साबित हो गयी है कि उन्हें गरीबों की कोई चिंता नहीं है। वह केवल अपना अर्थशास्त्र देखेंगे।

पुनिया ने कहा कि किन परिस्थितियों में हज जाने वालों को सब्सिडी दी जाती है उसको समझने की आवश्यकता है। यह केवल जो गरीब लोग है जो हज जाना चाहते हैं, लेकिन उनकी आर्थिक स्थिति ऐसी नहीं है जो वह जा सकें। तो यह भारत सरकार ने सोच समझ कर निर्णय लिया है। अब अनेक ऐसी योजनाएं हैं जो गरीबों के लिए है। अनेक ऐसी योजनाएं है जो अनुसूचित जाति के लिए हैं। जो बीपीएल परिवारों के लिए है। अगर भारत सरकार और नरेन्द्र मोदी का यह विचार है कि गरीब हो या जो भी हो, हम उसकी परवाह नहीं करते। हम केवल अपना अर्थशास्त्र देखेंगे तो इससे ज्यादा खेदजनक बात क्या हो सकती है।

जवानों की परेशानी पर क्यों नहीं करते मोदी ट्वीट

जवानों के हर रोज़ हो रहे वीडियो वायरल पर पुनिया ने कहा कि भारत सरकार को इसकी चिंता करनी चाहिए। सैनिक खाने की परेशानी, भूंखे पेट सोने की परेशानी, सुविधा न दिए जाने की परेशानी और अधिकारियों द्वारा अपने जूते पालिश करवाने जैसी गम्भीर परेशानी के बारे में वीडियो भेज रहे हैं। हर छोटी-छोटी बात पर ट्वीट करने वाले मोदी जी जवानों की परेशानी पर ट्वीट क्यों नहीं करते।

पुनिया ने इस पर कहा कि भारत सरकार को चिंता करनी चाहिए कि एक वीडियो आया बीएसएफ के जवान का। उन्हें खाना ठीक नहीं मिलता और कभी-कभी उन्हें ख़ाली पेट भी सोना पड़ता है। एक सीआरपीएफ के जवान का वीडियो आया उसमें उन्होंने कहा कि हमारे साथ भेदभाव हो रहा है। आर्मी को ज्यादा सुविधाएं मिलती है हमको कम मिलती हैं। एक आज वीडियो आया है आर्मी की तरफ से। आर्मी के जवान का उसमें कहता है कि अधिकारी लोग अपने जूतों की पालिश कराते हैं। सिपाहियों से तो यह इस सरकार के लिए बहुत ही शर्मनाक बात है कि किस तरह का माहौल आप दे रहे हैं। जो अर्धसैनिक बल हमारी बहादुर आर्मी जो दुश्मन का सामना करने के लिए बार्डर पर तैनात है उनके लिए आप भोजन की व्यवस्था न करें। उनके साथ भेदभाव करें, उन्हें ठीक से सुविधा न दें, तो मैं समझता हूँ कि सरकार को चिंता करनी चाहिए। नरेन्द्र मोदी जी छोटी-छोटी बात पर ट्वीट करते हैं। लेकिन हम देख रहे हैं कि आर्मी की जो स्थिति है उसके ऊपर आर्मी और अर्धसैनिक बलों की तरफ से जो वीडियो वायरल हुए। उसके ऊपर कोई ट्वीट नहीं। इसका मतलब है कि वह उनको बहुत गंभीरता से नहीं लेते। यह बहुत ही शर्मनाक बात है।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???