Patrika Hindi News

जीएसटी के विरोध में कपड़ा व्यापारी हड़ताल पर

Updated: IST Protest Against GST
कपड़े पर जीएसटी लगने से नाराज कपड़ा व्यपारियों ने सोमवार को दुकानें बन्द कर केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया।

बरेली। कपड़े पर जीएसटी लगाए जाने का विरोध शुरू हो गया है। कपड़े पर जीएसटी लगने से नाराज कपड़ा व्यपारियों ने सोमवार को दुकानें बन्द कर केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया और केंद्र सरकार से कपड़े से जीएसटी हटाने की मांग की और प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री के नाम ज्ञापन भेजा।

व्यापारियों का हो रहा शोषण

कपड़ा व्यापारियों का कहना है कि जीएसटी से कपड़ा व्यापारियों की परेशानी बढ़ जाएगी क्योंकि अत्यधिक व्यापारी वर्ग शिक्षित नहीं है। जीएसटी की प्रक्रिया एक अशिक्षित व्यापारी से सम्भव नहीं है। उसको न तो कम्प्यूटर का ज्ञान है और न ही उसकी दुकान में कम्प्यूटर लगाने की जगह है। कपड़ा व्यापारियों का कहना है कि कपड़ा व्यवसाय एक स्वरोजगार का माध्यम है और इसके द्वारा करोड़ों की संख्या में रोजगार का सृजन होता है। इसमें कपड़ा व्यापारी छोटी पूंजी से अपने व्यापार को करता है और अपने परिवार और कर्मचारियों का जीवन यापन करता है। इसलिए व्यापारी इतनी कम पूंजी में कम्प्यूटर और एकाउंटेंट रखने में असमर्थ है। व्यापारियों का कहना है कि क्या सरकार कम्प्यूटर उपलब्ध कराएगी व कम्प्यूटर का कार्य सिखाएगी।

कपड़ा व्यापार में आएगी गिरावट

कपड़ा व्यापारियों ने सरकार से कहा है कि जीएसटी से कपड़ा क्षेत्र में जो भारी गिरावट आएगी और बेरोजगारी फैलेगी इसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी एवं जवाबदेही कपड़ा मन्त्रालय और भारत सरकार की होगी। इसलिए इस क़ानून को वापस लिया जाए नहीं तो इससे बेरोजगारी की समस्या और बढ़ जाएगी और किसानों की तरह ही व्यापारी भी आत्महत्या के लिए मजबूर हो जाएगा।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???