Patrika Hindi News

> > > > Jagdalpur : Bastar tourism destination to reach now more than 52 thousand tourists

बस्तर के पर्यटन स्थल का दीदार करने अब तक पहुंचे 52 हजार से अधिक सैलानी

Updated: IST Kanger Valley National Park
बस्तर पर्यटन पर नक्सलवाद का नहीं रहा असर, साल दर साल बढ़ रही संख्या, आंकड़ा 80 हजार से अधिक होने की संभावना।

जगदलपुर. बस्तर पहुंचने वाले 55 हजार से अधिक देशी- विदेशी पर्यटकों के लिए सबसे बड़ा आकर्षण होता है यहां चित्रकोट और तीरथगढ़ के जलप्रपात को देखना।

इस साल जनवरी से लेकर सितंबर माह तक रिकार्ड 52, 148 देशी- विदेशी सैलानी बस्तर पहुंच चुके हैं। कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान के आधिकारिक आंकड़े इसकी पुष्टि करते हैं। पर्यटकों की बढ़ती संख्या जता रही है कि नक्सलवाद की समस्या से अलग हटकर वे बस्तर का पर्यटन की नजर से देख रहे हैं।

जनवरी से लेकर सितंबर तक आन वाले इन पर्यटकों में से ज्यादातर प. बंगाल के होते हैँ। इसके बाद कमोबेश ओडिशा, मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ के भी होते हैं। इसके अलावा इस साल फ्र ांस, जापान से भी करीब 30 विदेशी पर्यटक पहुंच चुके हैं।

इसे मिलाकर पर्यटकों का आंकड़ा 52, 178 पहुंच गया हैं। अक्टूबर माह के आंकड़े यद्यपि नहीं मिले हैं पर पर्यटन से जुड़े लोगों ने संभावना जताई है कि अक्टूबर, नवंबर, दिसंबर व जनवरी के पहले पखवाड़े में यह संख्या 80 हजार से भी अधिक हो जाएगी।

गुफाओं से रहे दूर

जून माह में कांगेर घाटी के इन गुफा के दरवाजे पर्यटकों के लिए बंद कर दिए गए थे। पार्क प्रबंधन का कहना है कि बारिश के मौसम में गुफा में पानी भर जाने की वजह से एेसा किया जाना जरुरी है। मई माह के आखिर से लेकर सितंबर तक आधिकारिक तौर पर 22,687 पर्यटक यहां पहुंचे थे।

इसके अलावा अक्टूबर माह के 4 हजार पर्यटकों को जोड दिया जाए तो यह संख्या 26 हजार से अधिक होती है। इतनी बड़ी संख्या में आए पर्यटकों को गुफाओं की बजाए तीरथगढ़ जलप्रपात की आेर मोड़ दिया गया था। इस सीजन में भी गुफाओं के दरवाजे अब तक नहीं खोले जाने का नतीजा यह निकला है कि बस्तर पर्यटन के इस मशहूर स्थल को देखने का सौभाग्य पर्यटक नहीं हासिल कर पाए।

1 नवंबर से दीदार

हालांकि पखवाड़े भर बाद 1 नवंबर से गुफाओं के दरवाजे पर्यटकों के लिए खोले जाने के लिए पार्क प्रबंधन प्रयास कर रहा है। यदि ऐसा होता है तो पहले ही दिन से पर्यटकों का रुझान कोटमसर की इन गुफाओं की ओर होना तय है।

एक नजर

माह /पर्यटकों की संख्या- जनवरी- 13334- फरवरी- 4649, मार्च- 4000,अप्रैल - 2418,मई -5060,जून-6013,जुलाई 4519,अगस्त-6469,सितंबर-5686,विदेशी पर्यटक :30~कुल= 52148 ~अक्टूबर 4000 (संभावित )।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???