Patrika Hindi News

> > > > Jagdalpur : Commissioner took charge of the university, student organizations fireworks

कमिश्नर ने संभाला विवि का प्रभार, छात्र संगठनों ने की आतिशबाजी

Updated: IST Welcomed with fireworks
बस्तर विश्वविद्यालय में धारा 52 लागू होने के बाद शुक्रवार देर शाम कमिश्नर ने प्रभार संभाल लिया। इस दौरान NSUI व ABVP पदाधिकारियों ने विवि परिसर में आतिशबाजी के साथ स्वागत किया।

जगदलपुर. बस्तर विश्वविद्यालय में धारा 52 लागू होने के बाद शुक्रवार देर शाम कमिश्नर दिलीप वासनीकर ने प्रभार संभाल लिया। इस दौरान एनएसयूआई व अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद पदाधिकारियों ने विवि परिसर में कमिश्नर का स्वागत कर आतिशबाजी के साथ किया।

धारा 52 लगने की जानकारी मिलते ही सुबह इसकी पुष्टि के लिए एसपी तिवारी भी छात्रनेताओं के साथ कमिश्नर कार्यालय पहुंचे थे। यहां दोपहर तक राजभवन से आदेश का इंतजार करते रहे। दोपहर बाद राजपत्र के जरिए सटीक जानकारी कार्यालय को हासिल हुई।

छात्रहित व अकादमिक कसावट प्राथमिकता

शाम साढ़े छह बजे कमिश्नर दिलीप वासनीकर कुलपति कक्ष में पहुंचे। यहां मीडिया से संक्षिप्त चर्चा में उन्होंने कहा कि विवि में छात्रहित के कार्य सुचारु हों व अकादमिक कसावट बनी रही, यह प्राथमिकता रहेगी। विवि में अनियमितताओं की शिकायतों पर उनका कहना था कि पूरी जानकारी लेने के बाद ही कुछ कहना उचित होगा।

इसके बाद प्राध्यापकों व स्टाफ से उन्होंने मुलाकात की। इस दौरान प्राध्यापक डा. शरद नेमा, डा. आनंदमूर्ति मिश्रा, डा. स्वपन कोले समेत अन्य मौजूद थे। इस बीच एसपी तिवारी कमिश्नर पर अपने निलंबन की फाइल को रद्द करने गुजारिश करते रहे। इस पर कमिश्नर ने उन्हें वस्तुस्थिति से अवगत करने की हिदायत भी दी।

लंबे संघर्ष का सुखद परिणाम

इधर कुलपति प्रो. एनडीआर चंद्र की छुट्टी को लेकर युवा मोर्चा पदाधिकारी जयराम दास ने कहा कि उनका संगठन लगातार विवि में कई अनियमितता के आरोप लगता रहा है। इसमें कुछ सच्चाई है तभी राज्य शासन ने एेसा कदम उठाया है। आगे भी परिषद के जरिए विवि की राजनीति में वे सक्रिय रहेंगे। इधर युवा कांग्रसी अजय बिसाई ने कहा कि विवि में अराजकता को लेकर धारा 52 को लेकर वे लगातार मुखर रहे। इसी का परिणाम है कि राज्य शासन ने एेसा निर्णय लिया है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे