Patrika Hindi News

.....तो डूब जाएगा चेराकुर, गांव के लोगो को है बांध बनने से खतरा।

Updated: IST bhanpuri bandh
बरसात के दौरान बांध का पानी रुकने से नाला का पानी पहाड़ में बसे ग्रामीणों के घर और खेत-खलिहानों तक पहुंच जाएगा

जगदलपुर . विधान सभा क्षेत्र नारायणपुर और बस्तर ब्लाक में ढाई हजार की आबादी वाले ग्राम पंचायत चेराकुर के ग्रामीणों ने बांध निर्माण का विरोध करने गुरुवार को कलक्टोरेट पहुंचे। इन ग्रामीणों का कहना है कि यदि बांध बना तो पूरा गांव पानी में डूब जाएगा। गौरतलब है कि इससे पहले यहां के ग्रामीणों ने ही बांध निर्माण करने की मांग की थी।

दो पहाडिय़ों के नीचे चेरापुर गांव

लोगों की माने तो दो पहाडिय़ों के नीचे चेरापुर गांव बसा है। यहां के ग्रामीण सदियों से इस पहाड़ के नीचे खेती-बाडी कर गुजर-बसर करते हैं। इस गांव के बीच से जाने वाली कप्परी नाला में बांध निर्माण करने इरिगेशन विभाग का सर्वे जारी है, कैनाल के आसपास मार्र्किंग कार्य भी जारी है। इस बांध को बनाने का उद्देश्य ग्रामीणों को सिंचाई और पीने के लिए पानी की भरपूर व्यवस्था करना है। ताकि ग्रामीणों को साल भर पानी मिल सके। लेकिन बांध निर्माण से पूर्व ही ग्रामीणों में भय का माहौल है, इनका कहना है कि बांध निर्माण करने से बांध का पानी गांव तक पहुंच जाएगा। इससे घर, जंगल और खेत-खलिहान डूब जाएंगे।

दो पहाडिय़ों के बीच में हैं गांव

सरपंच बुधराम बघेल ने बताया कि दो पहाडिय़ों के बीच स्थित चालीस मीटर चौड़ा कप्परी नाला गुजरता है। इस नाला के दोनो ओर पहाड़ हैं जिसके नीचे ग्रामीण खेती-बाड़ी और घर बनाकर रह रहे हैं। बरसात के दौरान बांध का पानी रुकने से नाला का पानी पहाड़ में बसे ग्रामीणों के घर और खेत-खलिहानों तक पहुंच जाएगा। जिससे ग्रामीणों को जान-माल का भारी नुकसान हो सकता है। इसलिए ग्रामीणों ने बांध निर्माण का विरोध करने का फैसला किया है।

पहले मांग, अब विरोध

बांध निर्माण का विरोध करने चेरापुर सरपंच, उपसरपंच, पंच सहित चार सौ से अधिक ग्रामीण गुरुवार की सुबह ही गांव से पीकअप में सवार होकर कलेक्टोरेट के लिए निकले थे। यहां दिनभर इंतजार करने के बाद शाम चार बजे जनदर्शन में कलक्टर को पत्र सौंपते हुए बांध निर्माण पर रोक लगाने की मांग की गई है। इस दौरान कलक्टर ने ग्रामीणों से कहा आप लोगों की मांग पर ही बांध निर्माण करना प्रस्तावित किया गया था, पर अब विरोध करना उचित नहीं है। इस पर सरपंच ने कहा अब हम विरोध में है।

बस्तर कलक्टर ने बताया कि

बांध निर्माण को लेकर इरीगेशन विभाग का सर्वे कार्य जारी है। सर्वे होने के उपरांत ही पता चल सकेगा गांव डूबान क्षेत्र में आता है या नहीं है। इसके बाद ही किसी तरह का निर्णय लेना उचित होगा।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???