Patrika Hindi News

> > > > Bemetara : Now farmers are suffering for boarrer

बची-खुची फसल पर कीट का प्रकोप

Updated: IST Crop affected by Insect
अकाल से परेशान किसानों के खेतों में जो थोड़ी-बहुत फसल नजर आ रही है, उस पर अब कीट प्रकोप पानी फेर सकता है।

बेमेतरा. अकाल से परेशान किसानों के खेतों में जो थोड़ी-बहुत फसल नजर आ रही है, उस पर अब कीट प्रकोप पानी फेर सकता है। जिले के करीबन 26 हजार हेक्टेयर पर लगी धान की फसल को तनाछेदक, कटुवा और भूरा माहो कीट चट कर रहे हैं, साथ ही ब्लास्ट जैसी बीमारी का भी असर नजर आ रहा है।

इल्ली के साथ अंडे भी नुकसानदेह

जानकारी के अनुसार, जिले में नवागढ़ ब्लॉक में 12325 हेक्टेयर, बेमेतरा ब्लॉक में 10305 हेक्टेयर, बेरला में 2395 हेक्टेयर और साजा में 1000 हेक्टेयर पर लगी फसल को कीट के साथ विभिन्न बीमारियों ने जकड़ा हुआ है। किसानों की माने तो फसल को सबसे ज्यादा नुकसान तनाछेदक कीट (स्टेम बोरर) से हो रहा है। किसान भगवानी वर्मा के अनुसार, कीट की इल्ली अवस्था फसल के लिए हानिकारक होती है।

सूखे खेतों में कटुवा का प्रकोप
कृषि विशेषज्ञों के अनुसार, सूखे व कम बारिश होने की वजह से कटुवा भी फसल को नुकसान पहुंचा रहा है। नाम के अनुसार कटुवा फसल की पत्तियों को काटकर गिरा देता है। कटुवा इल्ली दिन में जमीन व कंसों के बीच छुपी रहती है, रात में फसल को नुकसान पहुंचाती हैं। यह पूरे समूह में फसल को चट करती हैं। इसके अलावा फसल पर ब्लास्ट और भूरा धब्बा बीमारी का भी प्रकोप नजर आ रहा है।

कीट नियंत्रण के लिए जुटा विभाग
कीट प्रकोप की सूचना मिलते ही कृषि विभाग का अमला अपनी तैयारी में जुट गया है। उपसंचालक-कृषि विभाग विनोद कुमार वर्मा ने बताया कि कीट नियंत्रण के लिए विभाग ने चार दल का गठन किया है। जो गांव-गांव जाकर कीट व्याधी व बीमारी का विश्लेषण कर उपचार की सलाह दे रही है। वहीं किसानों को कीट से निपटने के लिए अनुदान पर केमिकल दे रहा है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे