Patrika Hindi News

> > > > Bemetara : Overload Truck causing accident

मौत बनकर सड़कों से गुजर रही यहां धान से लदी ओवर लोड ट्रक

Updated: IST Overload Truck with paddy
जिले के उपार्जन केन्द्रों में मूल्य पर समर्थन धान खरीदी शुरू होने के साथ परिवहन को लेकर क्षेत्र में वाहनों का दबाव बढ़ गया। सड़क पर जाम होने के साथ दुर्घटना हो रहे हैं।

बेमेतरा.जिले के उपार्जन केन्द्रों में मूल्य पर समर्थन धान खरीदी शुरू होने के साथ परिवहन को लेकर क्षेत्र में वाहनों का दबाव बढ़ गया। एक तरफ उपार्जन केन्द्रों में धान लेकर पहुंच रहे किसानों के वाहन हैं, तो दूसरी ओर खरीदी केंद्रों से संग्रहण केंद्रों तक धान लेकर जा रहे ओवरलोड वाहन हैं। इससे मुख्य मार्गों से लेकर मार्कफेड द्वारा जीपीएस सिस्टम से तय किए गए ग्रामीण अंचल से गुजरने पीएमजीएसवाय और सीएमजीएसवाय की सड़क पर जाम होने के साथ दुर्घटना हो रहे हैं।

कम चक्कर लगाने कर रहे जुगत
बताना होगा कि परिवहनकर्ता अपने अर्थिक हितों के फेर में वाहनों में क्षमता से अधिक धान लोड कर परिवहन कर रहे हैं। परिणाम स्वरूप परिवहन को लेकर कम चक्कर मारने पड़ते हैं। ऐसी स्थिति में बदहाल सड़कों पर हादसों की आशंका बढ़ जा रही है। जानकारी के अनुसार, सामान्यत: वाहन में 22 टन धान का परिवहन होता है, लेकिन परिवहनकर्ता वाहनों में 25-26 टन धान लोड करते है। गौरतलब हो कि परिवहनकर्ताओं को प्रति टन व दूरी के हिसाब से परिवहन का भुगतान किया जाता है।

वाहनों की लगी लंबी कतार
उपार्जन केन्द्र में धान की बोरियों के रेंडम तौल के बाद, बीजाभाठ स्थित धर्मकांटा में पुन: धान को तौला जाता हैं, जहां धर्मकांटा के सामने मुख्य मार्ग पर सैकड़ों वाहनों की कतार लगी रहती है। जो दुर्घटना के कारण बनते हैं। ऐसी स्थिति में व्यवस्था बनाने को लेकर जिला विपणन विभाग व परिवहनकर्ताओं के द्वारा कोई प्रयास नहीं किए जा रहे। परिणाम स्वरूप संबंधित ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

धान जाम होने से खरीदी बंद
बेमेतरा. उपार्जन केन्द्र टकसीवा में परिवहन के अभाव के चलते धान जाम होने से मंगलवार से खरीदी बंद कर दी गई है। समिति प्रबंधक आरके खोब्रागडे ने बताया कि उपार्जन केन्द्र टकसीवा में वर्ष 2016-17 में लगभग 1,16,000 क्विंटल धान खरीदी का लक्ष्य है। धान खरीदी शुरू होने से लेकर अब तक 24414.80 क्विंटल धान खरीदी की गई है, जिसमें से 4260 क्विंटल धान परिवहन हुआ है। 20154.80 क्विंटल धान उपार्जन केन्द्र में शेष है। परिवहन की लचर व्यवस्था के चलते उपार्जन केन्द्र में जाम की स्थिति बन गई है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???