Patrika Hindi News

मां से धोखाधड़ी कर बेटे ने हथियाई पिता की नौकरी,मां ने मांगी इच्छामृत्यु

Updated: IST With son-in-law and daughter, Saru Bai reached Jan
मां से धोखाधड़ी कर पिता की नौकरी हथियाने वाले एक बेटे ने नौकरी लगने के बाद मां को ही घर से बाहर का रास्ता दिखा दिया। मां द्वारा अपने गुजारे भत्ते के लिए पैसे मांगने पर बेटे और बहू द्वारा मारपीट कर धमकी दी जा रही है। जिससे आहत मां ने मंगलवार को जनसुनवाई में पहुंचकर कलेक्टर के समक्ष इच्छा मृत्यु प्रदान करने की गुहार लगाई।

बैतूल। मां से धोखाधड़ी कर पिता की नौकरी हथियाने वाले एक बेटे ने नौकरी लगने के बाद मां को ही घर से बाहर का रास्ता दिखा दिया। मां द्वारा अपने गुजारे भत्ते के लिए पैसे मांगने पर बेटे और बहू द्वारा मारपीट कर धमकी दी जा रही है। जिससे आहत मां ने मंगलवार को जनसुनवाई में पहुंचकर कलेक्टर के समक्ष इच्छा मृत्यु प्रदान करने की गुहार लगाई। पीडि़त मां का कहना था कि उम्र के इस पड़ाव में यदि प्रशासन उनकी मदद कर न्याय नहीं दिला पाता है तो फिर उन्हें इच्छा मृत्यु प्रदान करने की अनुमति दे। ताकि बुढ़ापे में यह दिन देखने को नहीं मिले।
पाथाखेड़ा के बिलासपुरी मोहल्ले में रहने वाली 70 वर्षीय सरू बाई दरवाई मंगलवार को अपने दामाद कृष्णा पंवार एवं छोटी बेटी कुसुम के साथ इच्छा मृत्यु दिए जाने की फरियाद लेकर जनसुनवाई में पहुंची थी। सरू बाई ने कलेक्टर शशांक मिश्र को बताया कि उनके पति स्व. श्यामराव दरवाई सारणी कोल माइंस में लैम्प फीटर के पद पर कार्यरत थे। जिनकी मृत्यु के पश्चात उनकी नौकरी उन्हें मिलना थी लेकिन उनके एकलौते पुत्र नारायण दरवाई ने छल-कपट से अंगूठा लगाकर नौकरी हथिया ली। नौकरी लगने के बाद नारायण ने उन्हें घर से बाहर निकाल दिया। मामला कोर्ट में पहुंचा तो कोर्ट ने सरू बाई को 400रुपए महीना देने के आदेश नारायण को दिए। कुछ महीने तो नारायण ने पैसे दिए लेकिन एक साल से वह भी देना बंद कर दिया। सरू बाई का कहना था कि उम्र के पड़ाव की वजह से उनका स्वास्थ्य अक्सर खराब रहता है उनके द्वारा दवा के लिए जब पैसे मांगे बेटे को फोन किया गया तो उसने कहा कि मैं तेरे हाथ में कटोरा थमा दूंगा और अगर घर आई तो लात मारकर बाहर निकाल दूंगा। बेटे की इस धमकी के बाद बेटियों ने उनका नागपुर में इलाज कराया। बेटे की हैवानियत को देखने के बाद मंगलवार को सरू बाई न्याय की गुहार लगाने अपने दामाद और बेटी के साथ कलेक्टोरेट जनसुनवाई में पहुंची थी। ताकि उन्हें यहां से न्याय मिल सके।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???