Patrika Hindi News

डॉक्टर्स को मिला टारगेट, रोजाना 25 नए और 30 पुराने मरीजों से मिलेंगे

Updated: IST shortage of doctors,specialist,bhopal,mp
टारगेट के अनुसार डॉक्टर्स को ओपीडी में प्रतिदिन 25 नए और 30 पुराने केस देखना जरूरी है।

भोपाल. सरकारी अस्पतालों के डॉक्टरों को फिर टारगेट बेस्ड काम करना होगा। टारगेट के अनुसार डॉक्टर्स को ओपीडी में प्रतिदिन 25 नए और 30 पुराने केस देखना जरूरी है। सर्जन को भी दिन में 2 मेजर और 2 माइनर सर्जरी का टारगेट है। उन्हें हर तीन माह में आउटपुट रिपोर्ट भी देनी होगी। टारगेट से बहुत कम काम करने वाले डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई भी हो सकती है। अपर संचालक प्रशासन शैलबाला मार्टिन ने इस संबंध में निर्देश जारी किए हैं। रिपोर्ट के आधार पर डॉक्टरों के आउटपुट का आकलन किया जाएगा। कमजोर आउटपुट वाले डॉक्टर्स को नोटिस जारी कर जवाब मांगा जाएगा। लगातार लापरवाही करने वाले डॉक्टर्स के खिलाफ कार्रवाई होगी। इसमें इनका प्रमोशन भी अटक सकता है।

यह मांगी जानकारी

माह में लिए गए अवकाश

ओपीडी में देखे गए मरीज

भर्ती किए गए मरीजों की संख्या

रेफर किए गए मरीज

इमरजेंसी कॉल की संख्या

इमरजेंसी ड्यूटी की संख्या

एमएलसी की संख्या

पोस्टमॉर्टम की संख्या

मेडिकोलीगल प्रकरण में कोर्ट में कितने दिन गए

सर्जन, गायनिक सर्जन, ऑप्थेल्मिक, ऑर्थो, ईएनटी, डेंटल सर्जन हैं तो किए गए ऑपरेशन की संख्या

पैथोलोजिस्ट, रेडियोलोजिस्ट हैं तो की गई जांचों की संख्या

विभाग में बंद उपकरणों की जानकारी

उपकरणों के लिए जरूरी सामग्री की पूर्ति के लिए की गई कार्रवाई

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???