Patrika Hindi News

> > > > chain pulling interrupted new system at bhopal station

बार बार होती रही चेन पुलिंग, हबीबगंज पर परेशान होते रहे यात्री

Updated: IST indian railway
रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर एक पर वॉशेबल एप्रॉन के निर्माण कार्य के चलते 01 दिसंबर से 65 ट्रेनों के स्टॉपेज हबीबगंज स्टेशन पर किए जाने के पहले दिन ही 50 प्रतिशत ट्रेनों में चेन पुलिंग की गई।

भोपाल। रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर एक पर वॉशेबल एप्रॉन के निर्माण कार्य के चलते 01 दिसंबर से 65 ट्रेनों के स्टॉपेज हबीबगंज स्टेशन पर किए जाने के पहले दिन ही 50 प्रतिशत ट्रेनों में चेन पुलिंग की गई। सैकड़ों की संख्या में यात्री भोपाल स्टेशन के आगे ही या फिर निशातपुरा के आसपास ट्रेनों की चेनपुलिंग कर उतर गए।

गंभीर बात यह है कि यात्रियों की यह जल्दबाजी उनकी जान पर भारी पड़ सकती है। बगल के ट्रैक पर गुजर रही ट्रेनों की चपेट में आने से गंभीर दुर्घटनाएं हो सकती है। चेन पुलिंग करने वालों में अवैध रूप से बिक्री करने वाले वेंडर भी शामिल हैं।

जानकारी के अनुसार भोपाल स्टेशन पर पहुंचने वाली श्रीधाम एक्सप्रेस, पंजाब मेल जैसी ट्रेनों के तीन से चार बार तक चेन पुलिंग की गई। इनमें से अधिकांश यात्री निशातपुरा के आसपास उतर गए। इसके चलते कई ट्रेनें आधे घंटे तक की देरी से हबीबगंज स्टेशन पर पहुंची। आरपीएफ के अधिकारियों के अनुसार बेवजह चेन पुलिंग करने वाले यात्रियों के विरुद्ध कार्रवाई के लिए शुक्रवार से अभियान चलाया जाएगा।

indian railway

हबीबगंज स्टेशन पर हावी रही अव्यवस्थाएं
हबीबगंज पर 75 ट्रेनों का पड़ाव बनाने के लिए व्यवस्थाएं नाकाफी रहीं। स्टेशन के दोनों छोर पर पार्किंग से लेकर यात्रियों के बैठने तक की सुविधा नदारद थी। प्लेटफार्म एक को छोड़कर अन्य जगह पर यूरिनल्स एवं शौचालयों की गंभीर समस्या है।

शताब्दी सहित दर्जनों ट्रेनें लेट
पहले ही दिन नई दिल्ली-हबीबगंज शताब्दी दो घंटे, फिरोजपुर-सीएसटीएम पंजाब मेल तीन घंटे, मंगला एक्सप्रेस 02 घंटे, श्रीधाम एक्सप्रेस 03 घंटे, केरला एक्सप्रेस 03 घंटे, पातालकोट 02 घंटे की देरी से हबीबगंज पहुंची।

नहीं पहुंचा रेलवे का स्टॉफ
सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि रेलवे का स्टॉफ ही हबीबगंज स्टेशन पर नहीं पहुंचा। पहले दिन हबीबगंज में तैनात स्टॉफ को व्यवस्थाएं संभालनी पड़ी। यहां तक की भोपाल स्टेशन के टीटीई स्टॉफ भी टिकट चेकिंग के लिए नहीं पहुंचे। सबसे अधिक समस्या ट्रेनों की देरी से आने वाले यात्रियों को उठानी पड़ी।

दरअसल यहां पर पदस्थ डिप्टी एसएस कॉमर्शियल ब्रोकेन ड्यूटी पर यानि शिफ्ट में काम कर रहे हैं। ऐसे में किसी ट्रेन के लेट हो जाने से उसके टिकट को अन्य ट्रेन पर स्वीकृत करने वाले अधिकारी ही स्टेशन पर नहीं मिले। इसे यात्रियों को भारी दिक्कत हुई। क्यों कि दर्जनों ट्रेनें गुरुवार को देरी से आईं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???