Patrika Hindi News

मुख्यमंत्री ने कहा, जनता को कूड़ा न समझें, एेसा अहंकार ठीक नहीं

Updated: IST bhopal
प्रशासन अकादमी में सिविल सर्विस-डे के कार्यक्रम में सीएम ने आईएएस अफसरों को नसीहत दी

भोपाल. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सिविल सर्विस-डे के मौके पर आईएएस सहित अन्य अफसरों को आईना दिखाया। सीएम ने कहा, नए अफसर तो एेसे हैं कि जनता को कूड़ा-माटी समझते हैं। एेसा अहंकार नहीं होना चाहिए। अंग्रेजों के समय एेसा था कि कलेक्टर से मिल लो, तो समझो भगवान मिल गए। अब एेसा नहीं है। अब अफसर जनता की सेवा के लिए हैं।

प्रशासन अकादमी में सिविल सर्विस-डे के कार्यक्रम में सीएम ने आईएएस अफसरों को नसीहत देकर कहा- कई बार दो विभाग एेसे लड़ते हैं, जैसे दो देश हो। क्या एेसा होना चाहिए? अफसरों को सेवाभाव से काम करना चाहिए। यह अच्छा है कि हमारे यहां अफसरों में गुटबाजी नहीं है। कई अफसर तो एेसे जुनूनी है, जो रात के दस-दस बजे तक काम करते हैं। कुछ एेसे हैं जो बैठते नहीं और दूसरों को भी नहीं बैठने देते।

सीएम ने कहा कि अफसरों को आत्मविश्लेषण करने की जरूरत है, तभी सिविल सर्विसेस की विश्वसनीयता बरकरार रहेगी। फैसले तेजी से हो, ताकत से लिए जाए और अंतिम कड़ी तक लाभ पहुचे इसपर चिंतन की जरूरत है। पात्र व्यक्ति को बिना भाग-दौड़ सरकारी योजनाओं का लाभ मिले, तभी सिविल सर्विस का उद्देश्य पूरा होता है। इसके लिए आउट ऑफ थिंकिंग जरूरी है।

लोकायुक्त के डर से साइन नहीं करते अफसर

सीएम ने उद्योग पीएस को लेकर कहा कि जब भी देखता हूं फाइलों में लगे दिखते हो, जैसे निवेश लाने की जिम्मेदारी इनकी ही हो। इसके बाद सीएम ने कहा कि लोकायुक्त और ईओडब्ल्यू के डर से फाइलें आगे नहीं बढ़ाते अफसर। एेसा डर रहे हैं कि साइन ही नहीं करते। ये ठीक नहीं। अफसरों के झगड़ों पर भी सीएम ने कहा कि यह उचित नहीं।

पुखराज मारू को सीएस ने बैठाया

आनंद विभाग पर जब अपर मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस अपना प्रेजेंटेशन दे रहे थे तो पूर्व आईएएस पुखराज मारू खड़े हो गए। मारू बोले- आनंद के इस प्रेजेंटेशन में कही भी स्वास्थ्य का तो जिक्र ही नहीं है। क्या आनंद बिना स्वास्थ्य होगा? इस पर बैंस चुप-से हो गए। फिर बोले- स्वास्थ्य भी है। खेल स्वास्थ्य के लिए ही होता है। मारू फिर कुछ पूछने लगे, तो सीएस बीपी सिंह ने नाराजगीभरा इशारा करके बैठा दिया।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???