Patrika Hindi News

Video Icon 11 साल: CM का ऐलान- भाजपा विधायक भी देंगे बैंक अकाउंट-प्रॉपर्टी का ब्योरा

Updated: IST Shivraj Singh Chauhan history,chief,minister, shiv
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने प्रेस मीट का आयोजन किया। जहां उन्होंने पत्रकारों के सवालों का अपने ही अंदाज में जवाब दिया।

भोपाल।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी घोषणा की है कि मध्यप्रदेश के जितने भी भाजपा विधायक हैं, वे 8 नवंबर के बाद से अब तक की अपनी संपत्ति का पूरा ब्योरा पार्टी को सौंपे। शिवराज ने ये कदम पीएम मोदी के मंगलवार सुबह आए आदेश के बाद दिया। पीएम मोदी ने सुबह आदेश दिया था कि भाजपा के सभी विधायक व सांसद 8 नवंबर के बाद से अब तक का अपना पूरा बैंक अकाउंट ब्योरा, संपत्ति की जानकारी पार्टी को सौंपें। दरअसल पीएम ने ये आदेश इसलिए दिया क्योंकि केंद्र सरकार पर यह आरोप लग रहा था कि 8 नवंबर को नोटबंदी के बाद और उसके पहले भाजपा ने देशभर में जमीनें खरीदीं। इनका हिसाब देना होगा।

इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रेस से मुलाकात करते हुए अपनी बातें रखीं। उन्होंने कहा कि सीएम की कुर्सी सम्हाले 11 साल हो गए। इस दौरान कई उतार-चढ़ाव आए पर हर मुश्किल को आसान कर दिया जनता के प्यार ने।उन्होंने इस मौके पर कई जरूरी घोषणाएं कीं। साथ ही आगामी सालों के लिए अपनी योजनाओं पर भी चर्चा की। सीएम ने कहा कि मैं नर्मदा नदी संरक्षण और पर्यावरण सुरक्षा के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए नर्मदा परिक्रमा करूंगा। साथ ही जन जागरण रैली भी निकाली जाएगी। जो नर्मदा के किनारों पर वृक्षारोपण करेगी।

उन्होंने कहा कि हर वर्ग के बच्चों के लिए उच्च शिक्षा अथवा कॉलेज में एडमिशन दिलाने में सरकार आर्थिक सहायता करेगी। यह योजना नए साल में ही लागू की जा रही है। गरीबों के लिए मकान बनाएं जाने का काम तेजी से बढ़ेगा। उन्होंने पीएम के आदेश के संबंध में कहा कि केन्द्र सरकार ने बीजेपी सांसदों और विधायकों से बैंक का ब्यौरा मांगा है। यह अच्छी पहल है। स्वच्छता हमें अपने आप से शुरू करनी होगी तभी समाज की गंदगी दूर कर पाएंगे।

मन दुखी भी है
सीएम ने कहा कि इन सालों में जितना पाया उतना खोया भी है। खासतौर पर पेटलावद की घटना आज भी जहन में है। मैं बहुत दुखी हूं कि मेरे कार्यकाल में यह घटना घटी। नेताओं के बच्चों के सरकारी स्कूलों में न पढऩे के सवाल पर सीएम ने कहा कि नेता और अफसरों के बच्चे भी यदि सरकारी स्कूलों ेमें पढ़ेंगे तो वहां बोझ बढ़ जाएगा। इसके पहले सरकारी स्कूलों की बुनियादी व्यवस्थाओं को बेहतर करना होगा।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???