Patrika Hindi News

> > > > Clean India campaign failed in Bhopal

कचरा बीनने में सबसे पीछे भोपाल, छोटे शहर निकले आगे

Updated: IST Clean India campaign
वहीं अपनी कमियों को छिपाने के लिए नगरीय प्रशासन विभाग ने नगर निगम और नगर पालिकाओं को परीक्षा पास करने के शॉर्ट कट बताना शुरू कर दिए हैं।

भोपाल। स्वच्छता मिशन 2017 के लिए केंद्र सरकार ने सर्वे फार्मेट जारी कर दिया है। जनवरी में केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के आब्जर्वर्स की टीम शहरों का दौरा कर ये पता लगाएगी कि फार्मेट में दिए गए प्रावधानों का पालन हो रहा है या नहीं। स्वच्छता मिशन 2017 में पास होने के लिए हर शहर को 900 नंबर का प्रश्नपत्र भरना है।

राजधानी की बात करें तो यहां सुविधाएं तो दूर तैयारियों तक का कोई पता नहीं है। सही मायनों में हमारी तैयारी पासिंग माक्र्स लाने लायक भी नहीं है। प्रदेश में जबलपुर इस मिशन में आगे है और यहां कचरे से बिजली बनाने, डोर टू डोर वेस्ट कलेक्शन जैसे काम शुरू हो चुके हैं। वहीं अपनी कमियों को छिपाने के लिए नगरीय प्रशासन विभाग ने नगर निगम और नगर पालिकाओं को परीक्षा पास करने के शॉर्ट कट बताना शुरू कर दिए हैं। इतने समय में प्रोजेक्ट शुरू होना मुश्किल है और इसका असर जनवरी में जारी होने वाली रैंकिंग पर पडऩा तय है।

सॉलिड-लिक्विड वेस्ट मैनेजमेंट के 140 अंक
सबसे अहम सॉलिड-लिक्विड वेस्ट मैनेजमेंट है जिसके लिए 140 अंक निर्धारित हैं। भोपाल में ये सुविधा डोर टू डोर वेस्ट कलेक्शन और वेस्ट एनर्जी प्लांट के तहत दी जानी थी लेकिन अब तक एमओयू तक नहीं हो सका है। इसके अलावा शहर में साफ-सफाई के प्रचार प्रसार के काम नदारद हैं, कचरे का सेग्रीगेशन, सड़कों पर दो बार झाडू लगना, एप पर शौचालयों की लोकेशन देने जैसे काम भी शुरू नहीं हुए हैं।

कट जाएंगे पूरे नंबर
डोर टू डोर कचरा कलेक्शन और वेस्ट एनर्जी पैदा करने की योजना को मेयर इन काउंसिल ने पिछले हफ्ते ही मंजूरी दी है। इसके तहत एस्सेल समूह प्रतिदिन 1210 रुपए प्रति मीट्रिक टन की दर पर कचरा उठावाएगा। आदमपुर खंती के पास चार एकड़ में प्लांट लगाकर इससे बिजली बनेगी। इस प्लांट का 31 दिसंबर तक शुरू होना मुश्किल है। इसके चलते 140 अंक कट सकते हैं।

एडवांस प्लानिंग भी अधूरी
सड़कों, नालों और नालियों को साफ करने के लिए ऑटोमैटिक मशीनों का इस्तेमाल नहीं होता है। कचरे की लोकेशन का पता लगाने के लिए स्व'छ एप लॉन्च किया गया है लेकिन इसका प्रचार नहीं हुआ। जागरुकता के लिए एक भी चौराहे पर इस एप के बारे में होर्डिग्स नहीं लगे हैं। फार्मेट में इस काम के लिए 15 अंक निर्धारित हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे