Patrika Hindi News

> > > > Demonetization: people can face problem for cash

Photo Icon आज महीने का आखिरी दिन, सैलरी आते ही बैंकों में फिर लगेगी लाइनें

Updated: IST cashless economy
जानकारों का कहना है कि लिमिट राशि (विड्राल 24,000 रुपए एवं एटीएम से 2500 रुपए) खत्म हो गई है।

भोपाल। नोटबंदी के बाद से बैंकों और एटीएम पर लग रही लंबी कतारें एक बार देखने को मिल रही हैं। आज 30 सितंबर है, कई सरकारी व प्राइवेट संस्थान आज सैलरी देते हैं। ऐसे में भोपाल समेत मध्यप्रदेश के ज्यादातर बड़े शहरों में अगले तीन से चार दिन एटीएम व बैंकों के बाहर लंबी लाइनें देखने को मिलेंगी। कुछ दिन की राहत के बाद फिर से आम लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। हालांकि बैंक प्रबंधन का कहना है कि वेतन तारीख देखते हुए काफी तैयारी कर ली गई है। 500, 1000 रुपए की जगह अब बड़े नोट (2000 रुपए) एटीएम में आने से ग्राहकों को फायदा मिला है।

cashless economy

बैंक जाएं तो ये दस्तावेज जरूर ले जाएं
केंद्र सरकार ने 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपए के नोटों का चलन बंद कर दिया था। उसके बाद नए नोट प्राप्त करने के लिए बैंकों के साथ एटीएम पर लंबी-लंबी लाइनें लगने लगी। लोग पूरे दिन (बैंकिंग समय) लाइनों में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार करते देखे गए। इस बीच सरकार ने 4500 रुपए की एक्सचेंज की राशि घटाकर 2000 कर दी। इससे और बैंकों में और भी भीड़ बढऩे लगी। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए जरूरी डाक्यूमेंट में आधार कार्ड, पेन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस के बाद हाथों की अंगुलियों में स्याही लगाने का काम शुरू हुआ। यह सब 20 नवंबर तक ज्यादा देखा गया। इसके बाद धीरे-धीरे रुपयों की जरूरतें कम हुई और लाइन कम होती गई। लेकिन अब माह की पहली तारीख आ रही है।

cashless economy

जानकारों का कहना है कि लिमिट राशि (विड्राल 24,000 रुपए एवं एटीएम से 2500 रुपए) खत्म हो गई है। वेतन आने से बैंकों में फिर से वैसी ही स्थिति बनेगी जैसी 8 नवंबर के बाद देखी गई थी। इस मामले में बैंक अधिकारियों का कहना है कि बैंकों को पर्याप्त नोटों की सप्लाई हो गई है। कैश होने से लोगों को परेशानी नहीं होगी।

बैंकों के पास पर्याप्त कैश...
अब बड़ी-बड़ी लाइन लगने जैसी स्थिति नहीं बनेगी। बैंकों के पास पर्याप्त कैश आ चुका है। ग्राहक अपनी जरुरत के हिसाब से पैसा विड्राल करवा सकते हैं। 8 तारीख के बाद कुछ दिन तक जो स्थिति बनी थी, अब वैसी नहीं होगी। एटीएम में बड़े नोट भी लोगों को मिलने लगे हैं।
- एस.के. महापात्रा, महाप्रबंधक यूनियन बैंक ऑफ इंडिया

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???