Patrika Hindi News

लीची खाना कहीं हो ना जानलेवा

Updated: IST lychee
गर्मी आते ही मौसमी फलों जैसे कि खरबूजा, तरबूज़, लीची, आदि का क्रेज़ लोगों में बढ़ जाता है। अगर आप भी लीची खाने के शौकीन हैं तो सतर्क हो जाएं क्योंकि आपको यह जानकर हैरानी होगी कि लीची आपकी जान भी ले सकती है।

भोपाल। गर्मी आते ही मौसमी फलों जैसे कि खरबूजा, तरबूज़, लीची, आदि का क्रेज़ लोगों में बढ़ जाता है। अगर आप भी लीची खाने के शौकीन हैं तो सतर्क हो जाएं क्योंकि आपको यह जानकर हैरानी होगी कि लीची आपकी जान भी ले सकती है। हाल ही में हुई एक रिसर्च के मुताबिक लीची में हाइपोग्लिसीन ए और मिथाइलेन्साइक्लोप्रोपाइल्गिसीन नाम का ज़हरीला तत्व पाया जाता है। यह तत्व इतना हानिकारक होता है कि अगर लीची खाली पेट खाई जाए तो यह व्यक्ति की जान भी ले सकते हैं।

डॉक्टर का ये है कहना
लीची खाने से होने वाली इस बीमारी के बारे में जब डाइटीशियन डॉ. विनीता मेवाड़ा से पूछा गया तो उनका कहना था कि यह बीमारी ज्यादातर बच्चों में देखी जाती है। इसका मुख्य कारण होते हैं लीची के बीज में पाए जाने वाला एमसीपीजी केमिकल जो कि जब खाली पेट हमारे शरीर में जाता है तो हाईपोग्लासीमिया(शरीर में ग्लूकोज़ की मात्रा कम होना) हो जाता है। इसकी वजह से बच्चे बेहोश हो सकते हैं या फिर अचानक से उनकी मौत भी हो सकती है। यह कंडीशन कुपोषित बच्चों में और भी ज्यादा देखी जाती है।

इसके साथ ही डॉ. विनीता मेवाड़ा ने बताया कि लीची गर्मियों में खाए जाने वाला बहुत ही अच्छा फल होता है लेकिन बच्चे ध्यान रखें कि इसे एक सीमित मात्रा में खाना खाने के बाद या फिर स्नैक्स के साथ लिया जाए।

भारत सरकार ने दिए निर्देश
साल 2014 में बुरहानपुर में खाली पेट लीची खाने के बाद इस बीमारी से हुई 390 बच्चों की मौत को देखते हुए भारत सरकार ने निर्देश जारी किए थे। इस निर्देश में खाली पेट लीची खाने से परहेज करने को कहा गया था। इसके साथ ही संतुलित भोजन लेने और सीमित मात्रा में भी लीची खाने की भी हिदायत दी गई थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए लोगों से शाम का खाना सुनिश्चित करने और संदिग्ध मामलों में ग्लूकोस का स्तर दुरुस्त करने की भी सिफारिश की गई थी।

खाली पेट ये फल भी खाना हो सकता है हानिकारक
खाली पेट केला खाना भी हानिकारक हो सकता है। आपको बता दें कि जब हम खाली पेट केला खाते हैं तो हमारे शरीर में मैग्नी्शियम की मात्रा काफी बढ़ जाती है जिसके कारण शरीर में कैल्शियम और मैग्‍नीशियम की मात्रा में असंतुलन हो जाता है और सीने में जलन की समस्या हो जाती है।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???