Patrika Hindi News

Photo Icon वाइफ के पास मिले 500 के 8 पुराने नोट, तो पति को आया इतना गुस्सा...

Updated: IST demonetization
मुश्किलों की कई कहानियां भी रोज सामने आ रही हैं। भोपाल में पुराने नोटों को लेकर पति-पत्नी के बीच हुए विवादों के तीन किस्से सामने आए।

भोपाल। 8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोट बंदी के फैसले के कई साइड इफेक्ट सामने आ रहे हैं। आम जनता जहां इस फैसले से दुखी है तो कईयों को हर दिन इस मुश्किल से दो-चार होना पड़ रहा है। मुश्किलों की कई कहानियां भी रोज सामने आ रही हैं। भोपाल में पुराने नोटों को लेकर पति-पत्नी के बीच हुए विवादों के तीन किस्से सामने आए। ये किस्से आपको भी हैरान कर देंगे....

demonetization

पहला किस्सा: 500 के नोट देख बरस पड़ा पति
भोपाल के शाहजहांनाबाद में रहने वाली सबिता (परिवर्तित नाम) दो दिन पहले काउंसलिंग के लिए जेपी अस्पताल स्थित गौरवी केंद्र पहुंची थीं। यहां उन्होंने बताया कि तीन दिन पहले पति ने मेरे पास 500-500 के 8 पुराने नोट देख लिए तो वो मुझ पर बरस पड़े। उन्होंने मुझे पीटा और घर के बाहर निकाल दिया। पति इस बात से हैरान था कि आखिर पत्नी के पास इतने नोट कहां से आए और वो भी पुराने। हालांकि सबिता ने बताया कि उसने ये पैसे तीन-चार साल में इकट्ठा किए थे। बाद में गौरवी केंद्र की कोऑर्डिनेटर शिवानी सैनी ने पति को समझाकर मनाया। अब सबिता और उसका पति खुशी से रह रहे हैं।

दूसरा किस्सा: पति ने नोट बदलवाए, लौटाए नहीं
राजधानी की ही रहने वाली रूबी (बदला नाम) ने बताया उसने मायके व अन्य जगह से मिले करीब 9 हजार रुपए इकठ्ठे किए थे। इन्हें पति से छिपाकर एक पुराने झोले में रखा था। 500-1000 के नोट बंद होने की जानकारी पति ने दी तो पहले तो लगा कि ये पैसे बर्बाद हो गए। लेकिन, जब उन्होंने बताया कि ये नोट बदले जा सकते हैं तो राहत मिली। नोट बदलने के लिए मेरे पास आधार कार्ड नहीं था, इसलिए डर-डर के तीसरे दिन पति को बताया। पति को लग रहा था मैने उसके पैसे चुराकर रखे हैं, इसलिए वह नाराज हो गया। उसने मेरे पैसे तो बदल लिए, पर मुझे कुछ नहीं दिया। इस वजह से कई दिन तक विवाद हुआ।

demonetization

तीसरा किस्सा: मायके वालों से बदलवाने में पति ने लगाई फटकार
राजधानी के अशोका गार्डन में रहने वाले सुधाकर कुमार (बदला नाम) ने नोटबंदी के दूसरे दिन वाइफ से कहा, घर में 500-1000 के जितने भी नोट हैं ले आओ। कल उसे बैंक में जमा कर देंगे। पत्नी बेटी के जमा रुपए तो ले आई पर अपने पैसे देने को तैयार नहीं हुई। उसके पास 6 हजार रुपए थे, लेकिन वह इस बात पर अड़ी थी कि मायके जाकर बदलवाएंगे। इस पर दोनों में विवाद हुआ। मामला गौरवी पहुंचने पर काउंसलर्स ने पति-पत्नी दोनों को बुलाकर काउंसलिंग की। इसके बाद पत्नी पैसे देने को राजी हुई।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???