Patrika Hindi News

> > > > most of the ministers are not disclose own property

मंत्री जी नहीं खोल रहे हैं अपने खातों के राज, अब कसेगा शिकंजा

Updated: IST benami-property
अब कोई मंत्री सम्पत्ति नहीं बता रहा है। मप्र विधानसभा में मंत्रियों को सम्पत्ति का ब्योरा जमा कराना पड़ता है।

भोपाल. प्रधानमंत्री ने देश में भाजपा के सभी सांसदों और विधायकों को नोटबंदी के बाद से बैंक खाते की डिटेल पार्टी अध्यक्ष को जमा कराने के लिए कहा है। मुख्यमंत्री ने भी अमल करने को कह दिया, लेकिन मप्र की हकीकत यह है कि निर्देश होने के बावजूद मंत्री सम्पत्ति का ब्योरा तक नहीं देते। प्रदेश में 2011 में यह व्यवस्था लागू हुई थी, तब सिर्फ 16 मंत्रियों ने सम्पत्ति का ब्योरा जमा कराया। एेसा एक भी बार नहीं हुआ, जब सभी मंत्रियों ने सम्पत्ति बताई। बाद में यह भी बंद हो गई। अब कोई मंत्री सम्पत्ति नहीं बता रहा है। मप्र विधानसभा में मंत्रियों को सम्पत्ति का ब्योरा जमा कराना पड़ता है। भाजपा सरकार के दूसरे कार्यकाल में इसका फैसला हुआ था, इसके तहत सबसे पहले 2011 में सीएम सहित 16 मंत्रियों ने सम्पत्ति बताई, जबकि कुल 35 मंत्री हैं। वर्ष 2015, 2016 में एक भी मंत्री ने जानकारी नहीं दी।

MUST READ: शादी में हो रही है देरी तो अपनाएं ये वास्तु टिप्स, बस जाएगा आपका घर

सम्पत्ति बताने वाले बदलते रहे

खास बात ये कि तीन साल तक लगातार 16 मंत्रियों ने सम्पत्ति बताई, लेकिन ये मंत्री बदलते रहे। मसलन, 2011 में अर्चना चिटनीस, पारस जैन व अजय विश्नोई ने सम्पत्ति बताई, किंतु अगले साल 2012 में सम्पत्ति नहीं बताई। 2012 में सरताज सिंह, जगदीश देवड़ा, तुकोजीराव पंवार आदि ने सम्पत्ति बताई, लेकिन 2013 में नहीं बताई। यानि बताने वाले मंत्री बदलते रहे। 2013 में सीएम शिवराज सिंह चौहान, मंत्री बाबूलाल गौर, कैलाश विजयवर्गीय, नरोत्तम मिश्रा, लक्ष्मीकांत शर्मा, नागेंद्र सिंह, जगन्नाथ सिंह, गौरीशंकर बिसेन, पारस जैन, राजेंद्र शुक्ल, जयंत मलैया, कन्हैयालाल अग्रवाल, हरिशंकर खटीक, महेंद्र हार्डिया, नानाभाऊ मोहोड़ व मनोहर ऊंटवाल ने सम्पत्ति बताई, जबकि 2012 में सीएम शिवराज सिंह चौहान, मंत्री बाबूलाल गौर सहित 16 मंत्रियों ने जानकारी दी।

2011 में सीएम शिवराज सिंह चौहान, मंत्री जगदीश देवड़ा, अजय विश्नोई, अर्चना चिटनीस, गौरीशंकर बिसेन, उमाशंकर गुप्ता, रामकृष्ण कुसमरिया, पारस जैन, नारायण सिंह कुशवाह, कन्हैयालाल अग्रवाल, हरिशंकर खटीक, देवसिंह सैय्याम, बृजेंद्र प्रताप सिंह, जय सिंह मरावी, नानाभाऊ मोहोड़ व मनोहर ऊंटवाल ने सम्पत्ति की जानकारी दी।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???