Patrika Hindi News

कम होने जा रही हैं नीट की सीटें, सुप्रीम कोर्ट ने लिया यह कड़ा फैसला

Updated: IST Supreme Court
नेशनल एलिजिबिलिटी एंट्रेंस टेस्ट (नीट) यूजी काउंसिलिंग में तय सीट से ज्यादा दाखिले देने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने छात्रों को राहत दी है।

भोपाल। नेशनल एलिजिबिलिटी एंट्रेंस टेस्ट (नीट) यूजी काउंसिलिंग में तय सीट से ज्यादा दाखिले देने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने छात्रों को राहत दी है। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले को बरकार रखते हुए कहा कि यह मानवीय भूल है। अतिरिक्त दाखिले में शामिल विद्यार्थियों का प्रवेश रद्द न किया जाए, बल्कि जिन कॉलेजों में यह दाखिले हुए हैं, अगले साल उतने दाखिले कम किए जाएं। नीट के माध्यम से एमबीबीएस में दाखिले के लिए भोपाल में सेंट्रलाइज काउंसलिंग हुई थी। 7 अक्टूबर को आखिरी चरण में ऑफलाइन काउंसलिंग के दौरान 37 अतिरिक्त दाखिले देने की बात सामने आई थी। मामला सामने आने के बाद चिकित्सा शिक्षा विभाग ने इन मेडिकल कॉलेजों को अतिरिक्त दाखिले निरस्त करने के निर्देश दिए थे।

हाईकोर्ट ने किए थे बहाल
डीएमई के निर्देश के बाद मेडिकल कॉलेजों ने इन छात्रों के दाखिले निरस्त कर दिए थे। इसे पारस सकलेचा ने हाईकोर्ट में चुनौती देते हुए याचिका दायर की। सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने सभी निरस्त दाखिलों को दोबारा बहाल करते हुए चिकित्सा शिक्षा विभाग को सुप्रीम कोर्ट से सलाह लेने को कहा था।

इन कॉलेजों में ज्यादा हुए थे दाखिले
देवास के अमलतास मेडिकल कॉलेज में 28, उज्जैन के आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज में एक और पीपुल्स मेडिकल कॉलेज में आठ अतिरिक्त दाखिले किए गए थे। पारस सचकलेचा के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिए हैं कि जिन कॉलेजों में गड़बड़ी हुई है वो इन्हें अगले साल एडजेस्ट करें। यानी अगले साल इन साटों को शामिल नहीं किया जाएगा।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???