Patrika Hindi News

सरकार का बड़ा फैसला, मुस्लिम और क्रिश्चियन भी बन सकते हैं पुरोहित

Updated: IST
मध्यप्रदेश में किसी भी जाति, धर्म के लोग पुरोहित की शिक्षा ग्रहण कर सकेंगे। मध्यप्रदेश का स्कूल शिक्षा विभाग अब पूजा-पाठ करने का कोर्स चलाने जा रहा है। आने वाली जुलाई से इस कोर्स के लिए एडमिशन शुरू हो जाएंगे।

भोपाल। मध्यप्रदेश में किसी भी जाति, धर्म के लोग पुरोहित की शिक्षा ग्रहण कर सकेंगे। मध्यप्रदेश का स्कूल शिक्षा विभाग अब पूजा-पाठ करने का कोर्स चलाने जा रहा है। आने वाली जुलाई से इस कोर्स के लिए एडमिशन शुरू हो जाएंगे। इधर, सरकार के इस फैसले का ब्राह्मण समाज ने कड़ा विरोध किया है।

मध्यप्रदेश के स्कूल शिक्षा विभाग के महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान के जरिए एक साल का यह कोर्स शुरू होने जा रहा है। खास बात यह है कि इस कोर्स में किसी भी धर्म और जाति के लिए कोई बाध्यता नहीं होगी।

सरकार के फैसले पर बिफरे ब्राह्मण
मध्यप्रदेश सरकार की इस कोशिश के बाद प्रदेशभर के ब्राह्मण समाज के लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया था। ब्राह्मणों का आक्रोश देखकर सरकार ने अपने कदम पीछे खींच लिए थे। जिझोतिया ब्राह्मण समाज के पं. जगदीश शर्मा के मुताबिक सनातन काल से ब्राह्मण ही पूजा-पाठ करवाते चले आ रहे हैं। हम सरकार के इस तरह के फैसले का विरोध करते रहेंगे।

पुरातन काल से ब्राह्मणों का है हक
भोपाल के पं. धर्मेंद्र शास्त्री ने पत्रिका को बताया कि ब्राह्मण पूर्वजों के अनुभवों और प्रशिक्षण के आधार पर श्रद्धाभाव से पूजा-पाठ करते आया है। ऐसे में अन्य जाति धर्म के लोगों को महज रोजगार के इरादे से यह कोर्स कराना गलत है।

क्या कहते हैं संस्थान के संचालक
पतंजलि संस्कृत संस्थान के संचालक प्रभात आर तिवारी ने कहा कि इसका पाठ्यक्रम तैयार भी हो चुका है। जुलाई से इसे लागू किया जाएगा। एक वेबसाइट को तिवारी ने बताया कि उनकी संस्थान का जोर बच्चों को प्रायोगिक शिक्षा देने पर ज्यादा रहेगा। इस कोर्स में किसी भी जाति अथवा धर्म की बाध्यता नहीं रहेगी। हालांकि संस्थान के संचालक का कहना है कि इस कोर्स के विरोध का प्रश्न ही नहीं उठता है। क्योंकि इस तरह के कोर्स किसी धर्म विशेष के लिए नहीं है। पुरोहित का काम करने वाले को पर्याप्त ज्ञान होना भी जरूरी है।

तो बढ़ सकता है कोर्स का विरोध
पुरोहित का कोर्स कराने के फैसले के बाद इसका विरोध बढ़ने की भी आशंका है। क्योंकि ब्राह्मण समाज इस फैसले से खफा हैं।

पहले भी हुआ था विरोध
सरकार ने कुछ समय पहले मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अनुसूचित जाति विभाग को एक योजना पर काम करने के लिए कहा था, जिसके तहत दलित वर्ग के युवा भी पंडिताई और पुरोहित बनने की ट्रेनिंग ले सके। सरकार दलित वर्ग को भी ब्राह्मणों की तरह पूजा-पाठ, यज्ञ-हवन, शादी ब्याह जैसे मांगलिक कार्य कराने के लिए प्रशिक्षण देना चाहती है।

यह भी पढ़ें

Uma Bharti

babari masjid news,babari masjid latest news,babri

political hate speech, jaibhan singh pawaiya, babr

minister

SIMI

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???