Patrika Hindi News

Video Icon भोपाल नवाब के नाती हैं PAK क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष, इस गांव में हुआ था जन्म

Updated: IST   amazing india, amazing world, wow facts, pakista
शहरयार खान की पढ़ाई और परवरिश पाकिस्तान में हुई। शहरयार पहले पाकिस्तान के विदेश सचिव बने और फिर पाकिस्तान क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के चेयरमेन हैं।

गोविंद सक्सेना @ विदिशा। मध्यप्रदेश के विदिशा जिले के कुरवाई शहर की गिनती भले ही छोटे और पिछड़े शहरों में होती हो, लेकिन यहीं का एक बेटा पाकिस्तान क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड का चेयरमैन है। जी हां, शहरयार खान, जो अभी पाकिस्तान क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के चेयरमेन हैं, वे कुरवाई नवाब सरवर अली खान के सबसे बड़े बेटे हैं। आइए हम बताते हैं शहरयार खान से जुड़ी कई दिलचस्प बातें....

 amazing world

(कुरवाई स्टेट का प्रतीक)

भारत में जन्मे, पाकिस्तान में पले-बढ़े
- तत्कालीन कुरवाई स्टेट के नवाब सरवर अली का निकाह भोपाल नवाब हमीदुल्लाह खान की बड़ी बेटी आबिदा सुल्तान से हुआ था।
- भोपाल नवाब ने अपनी बेटी को कुरवाई में रहने के लिए किले से दूर एक आलीशान महल बनवाया था।
- जब तक वह महल नहीं बना, तब तक निकाह नहीं हुआ। महल बनने के बाद 1933 में निकाह हुआ।
- फिर नवाब सरवर अली की नई नवेली बेगम आबिदा सुल्तान ने कुरवाई में कदम रखा।
- उन्होंने यहां तीन साल बिताए और यहीं शहरयार खान का जन्म हुआ। शहरयार के जन्म के बाद वे यहां ज्यादा नहीं रुकीं।
- नवाब सरवर अली से उनका तलाक नहीं हुआ, लेकिन वे उनसे अलग होकर पहले भोपाल और फिर अपने बेटे शहरयार के साथ पाकिस्तान चलीं गईं।
- वहीं शहरयार खान की पढ़ाई और परवरिश हुई। शहरयार पहले पाकिस्तान के विदेश सचिव बने और फिर पाकिस्तान क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के चेयरमेन हैं।

 amazing world

बेगम के महल में अब सरकारी दफ्तर
भोपाल नवाब ने कुरवाई में अपनी बेटी के लिए जो आलीशान महल बनवाया था, वो आबिदा बेगम के पाकिस्तान चले जाने के बाद बेनूर हो गया। नवाबी दौर खत्म हुआ तो इस महल को सरकार ने अपनी अधीन कर लिया। वर्तमान में उस महल में एसडीएम, तहसीलदार कार्यालय सहित अनेक सरकारी दफ्तर लगते हैं।

 amazing world

(शहरयार खान की पिता नवाब सरबर अली खान)

सरकार अम्मा का चलता था हुक्म
आबिदा सुल्तान जब नवाबजादा शहरयार को लेकर पाकिस्तान चलीं गईं तो नवाब सरवर अली ने दूसरा निकाह आयशा बेगम से किया। आयशा बेगम से नवाब के दो बेटे जफर अली, मुनव्वर अली और बेटी केसर जमा ने जन्म लिया। मुनव्वर अली भी पाकिस्तान में रहने लगे। जबकि जफर अली खान और बेटी केसर जमा के हिस्से में अब करीब 25 बीघा का किला परिसर है। केसर जमा भोपाल में रहने लगीं हैं, लेकिन किले में उनका मैरिज गार्डन और स्कूल चलता है। जफर अली खान खुद अपने बेटे फीरोज अली खान के साथ इस किले के एक हिस्से में रहते हैं।

 amazing world

(शहरयार खान की माँ जो कुरवाई के बाद अपने बेटे को लेकर पाकिस्तान चली गईं थी। आबिदा बेगम।)

 amazing world

(शहरयार खान की दादी ऊमरून्निशा जिन्हें आज भी सरकार अम्मा के नाम से याद किया जाता है।)

अब भी नवाबी शान और अदब
1923 में नवाब का ताज पहनने वाले नवाब सरवर अली कुरवाई रियासत के आखरी नवाब थे। उनका इंतकाल 1986 में हुआ। नवाबी दौर पहले ही खत्म हो चुका था, लेकिन कुरवाई नवाब के किले में अबभी नवाबी शान और अदब पहले जैसा ही है। नवाबजादा जफर अली खान और उनके बेटे फिरोज अली के ड्राइंग रूम में अब भी कालीन, फर्नीचर, झूले, सीलिंग, दीवारों पर टंगे चीते, तेंदुए, बारहसिंघा के सिर, कालीन और नवाब परिवार के बातचीत का अंदाज अब भी बिल्कुल अलहदा है। इसके साथ ही ड्राइंग रूम में अम्मा सरकार, नवाब सरवर अली, आबिदा सुल्तान आदि के दमकते चेहरों वाली तस्वीरें रियासत का रौब अबभी बताती हैं।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???