Patrika Hindi News

> > > > Shahdole By Election : BJP in Tention after enteranl Serveya

शहडोल लोकसभा उपचुनाव : अंदरूनी सर्वे से भाजपा की बढ़ी टेंशन

Updated: IST Shahdole By Election : BJP in Tention after entera
सर्वे में शहडोल सीट पर मिली कमजोरियों को दूर करने मंत्रियों और संगठन को लगाया...

भोपाल. शहडोल लोकसभा उपचुनाव से पहले अंदरूनी सर्वे ने भाजपा की टेंशन बढ़ा दी है। सर्वे में शहडोल सीट पर मिली कमजोरियों को दूर करने के लिए मंत्रियों और संगठन को लगाया गया है। इस क्षेत्र में जमीनी कार्यकर्ताओं की नाराजगी दूर करने के लिए पहले ही दो दर्जन अफसरों को हटाया जा चुका है। लोकसभा उपचुनाव में रतलाम-झाबुआ सीट पर भाजपा ने बुरी तरह मात खाई थी। शहडोल में दूसरा उपचुनाव है। ऐसे में शहडोल की हार पर मुश्किलें बढ़ जाएंगी। पार्टी ने प्रत्याशी चयन के लिए अंतरिम सर्वे कराया था, जिसमें चेहरे के अलावा कई कमजोरियां बताई गई है। सर्वे और प्रमुख नेताओं के दौरे मेें मिले फीडबैक के आधार पर ही कलेक्टर के अलावा दो दर्जन अफसरों के तबादले किए जा चुके हैं। 25 अक्टूबर के बाद ही प्रत्याशी तय होगा।

हिमाद्री पर दांव खेलने की तैयारी में कांग्रेस
शहडोल में कांग्रेस पूर्व सांसद राजेश नंदनी सिंह की बेटी हिमाद्री सिंह पर दांव खेलने की तैयारी में है। इसकी घोषणा से पहले ही कार्यकर्ताआें ने प्रचार शुरू कर दिया है। वहीं भाजपा की नजर राजेश नंदनी पर है। झाबुआ लोकसभा सीट के बाद शहडोल जीतकर कांग्रेस एेसा माहौल बनाना चाहती है कि मध्यप्रदेश में अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का जादू खत्म हो गया है। राज्यसभा चुनाव में जिस रणनीति के तहत कांग्रेस ने एक सीट पर कब्जा किया, उससे कांग्रेस कार्यकर्ताओं में उत्साह बढ़ा है। पार्टी कार्यकर्ताओं में यह उत्साह वर्ष 2018 में होने वाले विधानसभा चुनाव तक बनाए रखना चाहती है। इसलिए पार्टी कोई भी कोर कसर नहीं छोडऩा चाहती। एेसे में कांग्रेस पूरी रणनीति के तहत मैदान में उतरने की तैयारी में है। एेसे में पार्टी की सुई पूर्व सांसद राजेश नंदनी ङ्क्षसह की बेटी हिमाद्री सिंह पर आकर टिक गई है। हालांकि यहां से कांग्रेस विधायक फुंदी लाल मार्को और पूर्व मंत्री बिसाहूलाल सिंह का नाम सुर्खियों में है।

दिग्गज नेताओं का साथ
हिमाद्री सिंह के मामले में कांगे्रस में लगभग सहमति है। पहले हिमाद्री तैयार नहीं थीं, लेकिन अब उन्हें मना लिया गया है। दिग्गज नेताओं का भी उन्हें समर्थन है। हालांकि हिमाद्री को लेकर सत्तारूढ़ दल भाजपा में भी हलचल है। पार्टी उन पर डोरे डालने के साथ उनका काट भी तलाश रही है। जिससे शहडोल लोकसभा सीट पर अपना कब्जा बरकरार रखा जाए।

नेपानगर में यादव की सक्रियता
बुरहानपुर जिले के नेपानगर विधानसभा में भी उप चुनाव होना है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव मंगलवार को नेपानगर विधानसभा क्षेत्र में सक्रिय रहे। यह विधानसभा क्षेत्र उनके लोकसभा क्षेत्र में भी शामिल रही है। यादव ने यहां के ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों से संपर्क किया। कार्यकर्ताओं की बैठक भी ली।

चुनावी खर्चों की होगी निगरानी
शहडोल और नेपानगर उप चुनाव की घोषणा के साथ ही चुनाव आयोग ने जिला निर्वाचन अधिकारी और कलेक्टरों को निर्देश दिए हैं कि वे राजनीतिक दलों एवं उम्मीदवारों के खर्चों पर निगरानी रखें। इनके खर्चों का ब्योरा भी आयोग को भेजा जाए। नामांकन पत्र भरने वाले अभ्यर्थियों को रोज के लेखे का रजिस्टर नामांकन भरने के साथ ही प्रदाय करने को कहा गया है। यहां नामांकन पत्र 22 अक्टूबर से भरे जाएंगे। मालूम हो यहां नामांकन पत्र स्वीकार किए जाने का सिलसिला 22 अक्टूबर से शुरू हो जाएगा। प्रदेश के शहडोल संसदीय क्षेत्र के शहडोल, उमरिया, अनूपपुर, कटनी और नेपानगर विधानसभा क्षेत्र (जिला बुरहानपुर) में चुनाव आचार संहिता प्रभावी है। इन पांचों जिलों के कलेक्टरों को निर्वाचन व्यय पर निगरानी रखने के लिए कहा गया है। राजनीतिक दलों से भी कहा गया है कि वे प्रतिदिन के खर्चे का हिसाब रखें और चुनाव खर्च की जानकारी आयोग को दें। जिला निर्वाचन अधिकारियों से कहा गया है कि हिसाब-किताब के रजिस्टर, शेडो रजिस्टर आदि तैयार करवाएं। विभिन्न सामग्री की दरों के निर्धारण के लिए राजनीतिक दलों के साथ बैठक कर उसे वेबसाइट पर प्रदर्शित करने के निर्देश दिए गए हैं। जिला कलेक्टर्स को अवैध शराब को रोकने के लिए आबकारी विभाग के उडऩदस्तों को तैनात करने को भी कहा गया है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???